Search

लोड हो रहा है. . .

गुरुवार, नवंबर 08, 2012

धन तेरस शुभ मुहूर्त (11-नवम्बर-2012)

Dhanteras 11-11-2012 date, Subh Muhurat Dhanteras, Dhanteras celebrations, Dhanteras, Dhantheran, Dhanterash, Dhantrayodashi, Dhanwantari Triodas, Dhanteras 11 NOV 2012, Dhanteras Puja, Dhanteras-Dhanteras Pooja Muhurt (Time), November 11th 2012, Dhanteras Auspicious time to Buy Gold and Silver Auspicious, Auspicious date 11/11/2012,  दीपावली, 11-नवम्बर-2012 धनतेरस के शुभ मुहूर्त, धनतेरस पूजन विधि, ११ नवंबर २०१२ धनतेरस, धनतेरस मंत्र, धन त्रयोदशी, १३ नवम्बर २०१२ दीपावली, दिपावलि, दिपावली, दीपावलि, दिवाली, दिवाळी, दिवाळि, दीवाळी, 13 नवंबर 2012, 11-नवम्बर-2012 धनतेरस के शुभ मुहूर्त, धनतेरस पूजन विधि, ११ नवंबर २०१२ धनतेरस, धनतेरस मंत्र, धन त्रयोदशी, १३ नवम्बर २०१२ दीपावली, दिपावलि, दिपावली, दीपावलि, दिवाली, दिवाळी, दिवाळि, दीवाळी, 13 नवंबर 2012, મંત્ર, ધન ત્રયોદશી, ૧૩ નવમ્બર ૨૦૧૨ દીપાવલી, દિપાવલિ, દિપાવલી, દીપાવલિ, દિવાલી, દિવાળી, દિવાળિ, દીવાળી, 13 નવંબર 2012, 11-નવમ્બર-2012 ધનતેરસ કે શુભ મુહૂર્ત, ધનતેરસ પૂજન વિધિ, ૧૧ નવંબર ૨૦૧૨ ધનતેરસ, ધનતેરસ મંત્ર, मंत्र सिद्ध श्री लक्ष्मी गणेश यंत्र, अभिमन्त्रित गणेश लक्ष्मी यन्त्र, महा यन्त्र, महा शक्तिशाली यंत्र, शुभ लाभ यन्त्र, गनेश यन्त्र, गनेश लक्ष्मी यंत्र, अभिमंत्रित गणेश यंत्र, गणेष यंत्र, कुबेर यंत्र, कुबेर यन्त्र, यक्ष कुबेर यंत्र, धन कुबेर यंत्र,  સિદ્ધ શ્રી લક્ષ્મી ગણેશ યંત્ર, અભિમન્ત્રિત ગણેશ લક્ષ્મી યન્ત્ર, મહા યન્ત્ર, મહા શક્તિશાલી યંત્ર, શુભ લાભ યન્ત્ર, ગનેશ યન્ત્ર, ગનેશ લક્ષ્મી યંત્ર, અભિમંત્રિત ગણેશ યંત્ર, ગણેષ યંત્ર, કુબેર યંત્ર, કુબેર યન્ત્ર, યક્ષ કુબેર યંત્ર, ધન કુબેર યંત્ર,  ધન તેરસ શુભ મુહૂર્ત (11-નવમ્બર-2012), દીપાવલી પૂજન મુહૂર્ત(13-નવમ્બર-2012), Mantra siddha Lakshmi Ganesh Yantra, Shri Dhan Laxmi Yantra, Pran Pratishthit Subhlabh Yantras, abhimantrit, Lakshmi Ganesh Yantra, ganesh lakshmi mantra, Divine laxmi ganesh yantra, Shree Yantra In Copper, Silver, Pure Gold, Maha lakshmai Bisha Yantra, Dayak Siddha Bisa Yantra, Kanak Dhara, Vaibhav Lakshmi, Mahan Siddhi Dayak Shri Mahalakshmi Yantra In Odisha, Shri Shri Yantra in Orissa, Shree Jayeshtha Lakshmi Mantra Poojan Yantra, Dhanda Yantra, Sri Yantra, Yantra, Yantras, Crystal, Sphatik, Sfatik, yantras, Mantra Siddha Yantra For Good Wealth, Health, Happyness, Shri Jantra, Shree Chakra Yantra, Sampoorn Shree Yantra, Sampurn Lakshmi Yantra In Bhubaneswar, Laxmi Bisa Lakshmi Ganesh Yantra, Shree Lakshmi Yantra, Siddh Yantras,  24K Gold Plated Vedic Yantras, akhandit Ganesh lakshmi Yantra, Praan Pratishthit yantra, Kuber Yantra For Money, Kuber Yantra For Finance, Dhan Prapti Kuber Yantra, dhan labh Kuber Yantra, 24K Gold Plated Vedic, auspicious time For Lakshmi Pooja, Yantras, akhandit Kuber Yantra, Praan Pratishthit Kuber yantra,  Kuber Jantra
धन तेरस शुभ मुहूर्त (11-नवम्बर-2012)
लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (नवम्बर-2012)
एसी पौराणिक मान्यता हैं कि धन तेरस के दिन धनवंतरी नामक देवता अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए थे। धनवंतरी धन, स्वास्थय आयु के अधिपति देवता हैं। धनवंतरी को देवों के वैध चिकित्सक के रुप में जाना जाता हैं।
धन तेरस के दिन चांदी के बर्तन-सिक्के खरीदना विशेष शुभ होता हैं। क्योकि शास्त्रों में धनवंतरी देव को चंद्रमा के समान माना गया हैं। धन तेरस के धनवंतरी के पूजन से मानसिक शान्ति, मन में संतोष एव स्वभाव में सौम्यता का भाव आता हैं। जो लोग अधिक से अधिक धन एकत्र करने कि कामना करते ……………… ……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH NOV-2012
>>………. विशेष रुप से इस शुभ दिन में पूजा आराधना करनी चाहिए। धनतेरस में खरीदारी शुभ मानी जाती हैं। लक्ष्मी जी एवं गणेश जी कि चांदी कि प्रतिमा-सिक्को को इस दिन खरिदना धन प्राप्ति एवं आर्थिक उन्नति हेतु श्रेष्ठ होता हैं। धनतेरस के दिन भगवान धनवन्तरी समुद्र से अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे, इसलिये धनतेरस के दिन खास तौर से बर्तनों कि खरीदारी कि जाती हैं। इस दिन स्टील के बर्तन, चांदी के बर्तन खरीदने से प्राप्त होने वाले शुभ फलो में कई गुणा वृद्धि होने कि संभावना बढ़जाती हैं।

धन तेरस पूजा मुहूर्त:
प्रदोष काल 2 घण्टे एवं 24 मिनट का होता हैं। अपने शहर के सूर्यास्त समय अवधि से लेकर अगले 2 घण्टे 24 मिनट कि समय अवधि को प्रदोष काल माना जाता हैं। अलग- अलग शहरों में प्रदोष काल के निर्धारण का आधार सूर्योस्त समय के अनुशार निर्धारीत करना चाहिये। धनतेरस के दिन प्रदोषकाल में दीपदान व लक्ष्मी पूजन करना शुभ रहता है ।
इस वर्ष 11 नवम्बर, 2012 (धनतेरस) को भारतीय समय अनुशार नई दिल्ली में संध्या सूर्यास्त के बाद 05 बज कर 27 मिनिट से आरम्भ होकर रात के 07 बजकर 51 मिनट तक का समय प्रदोष काल रहेगा। इस समया अवधि में स्थिर लग्न  (वृषभ) भी मुहुर्त समय में होने के कारण घर-परिवार में स्थायी लक्ष्मी की प्राप्ति होती है।
11 नवम्बर, 2012 को प्रदोष काल में भी स्थिर ………………………..>> >> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH NOV-2012………………………… संध्या 05:40:47 बजे से लेकर रात्री 07:36:14 बजे तक का समय रहेगा। प्रदोष काल के दौरान संध्या 05:29 बजे से 07:08 बजे तक शुभ चौघडिया होने से मुहुर्त की शुभता में वृद्धि होती हैं।
चौघाडिया मुहूर्त


· चल मुहूर्त सुबह 08:02 से …..
· लाभ मुहूर्त सुबह09:2………
· शुभ मुहूर्त दोपहर ……
· शुभ मुहूर्त संध्या 05:29 से 07:………..
· अमृत मुहूर्त रात 07:08 से …..
· चल मुहूर्त रात 08:47 से 10…….……………..>> Read Full Article Please Read GURUTVA


JYOTISH NOV-2012
शुभ महूर्त का समय धन तेरस की पूजा के लिये विशेष शुभ रहेगा। लाभ मुहूर्त पूजन करने से प्राप्त होने वाले लाभों में वृद्धि होती हैं। शुभ काल मुहूर्त कि शुभता से धन, स्वास्थय आयु में वृद्धि होती हैं। सबसे अधिक शुभ अमृत काल में पूजा करने का होता हैं।
नोट: उपरोक्त वर्णित सूर्यास्त का समय निरधारण नई दिल्ली के अक्षांश रेखांश के अनुशार आधुनिक पद्धति से किया गया हैं। इस विषय में विभिन्न मत एवं सूर्यास्त ज्ञात करने का तरीका भिन्न होने के कारण सूर्यास्त समय का निरधारण भिन्न हो सकता हैं। सूर्यास्त समय का निरधारण स्थानिय सूर्यास्त के अनुशार हि करना उचित होगा।

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष -पत्रिका नवम्बर-2012 का अंक पढें।
इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।
>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (नवम्बर-2012)
Nov-2012
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें