Search

गुरुवार, जुलाई 31, 2014

नाग पंचमी का धार्मिक महत्व (नाग पंचमी 1 अगस्त 2014) Nag Panchami Ka Dharmik Mahatva

नाग पंचमी का महत्व, नाग पंचमी पूजा, नाग पंचमी पूजन, नाग पंचमी पूजन 1 अगस्त 2014, नाग पंचमी कथा, नाग पंचमी की कथा, 01/08/201 नागपंचमी, नाग पंचमी का महत्व, नाग पंचमी पूजा, नाग पंचमी पूजन, नाग पंचमी पूजन 1 अगस्त 2014, नाग पंचमी कथा, नाग पंचमी की कथा, 01/08/201 नागपंचमी, नाग पन्चमी, पंचमि, નાગ પંચમી કા મહત્વ, નાગ પંચમી પૂજા, નાગ પંચમી પૂજન, નાગ પંચમી પૂજન 1 અગસ્ત 2014, નાગ પંચમી કથા, નાગ પંચમી કી કથા, 01/08/201 નાગપંચમી, નાગ પન્ચમી, પંચમિ 2014 Nag Panchami puja, puja  Nag Panchami pujan 1 August 2014, Nag Panchami Festival, Nag panchami story, nag panchami pooja, nag panchami celebrations, nag panchami Mahatva in hindi ,

नाग पंचमी का धार्मिक महत्व

लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष मासिक ई-पत्रिका (अगस्त-2014)

नाग पंचमी व्रत श्रावण शुक्ल पंचमीको किया जाता है । लेकिन लोकाचार व संस्कृति- भेद के कारण नाग पंचमी व्रत को किसी जगह कृष्णपक्षमें भी किया जाता है । इसमे परविद्धा युक्त पंचमी ली जाती है । पौराणिक मान्यता के अनुशार इस दिन नाग-सर्प को दूधसे स्त्रान और पूजन कर दूध पिलाने से व्रती को पुण्य फल की प्राप्ति होती हैं। अपने घर के मुख्य द्वार के दोनों ओर गोबरके सर्प बनाकर उनका दही, दूर्वा, कुशा, गन्ध, अक्षत, पुष्प, मोदक और मालपुआ इत्यादिसे पूजन कर ब्राह्मणोंको भोजन कराकर एकभुक्त व्रत करनेसे घरमें सर्पोंका भय नहीं होता है । 
सर्पविष दूर करने हेतु निम्न निम्नलिखित मंत्र का जप करने का विधान हैं। 
"ॐ कुरुकुल्ये हुं फद स्वाहा।"

नाग पंचमी की पौराणिक कथा
पौराणिक कथा के अनुशार प्राचीन काल में किसी नगर के एक सेठजी के सात पुत्र थे। सातों पुत्रों के विवाह हो चुके थे। सबसे छोटे पुत्र की पत्नी श्रेष्ठ चरित्र की विदुषी और सुशील थी, लेकिन उसका कोई भाई नहीं था।

एक दिन बड़ी बहू ने घर लीपने के लिए पीली मिट्टी लाने हेतु सभी बहुओं को साथ चलने को कहा तो सभी बहू उस के साथ मिट्टी खोदने के औजार लेकर चली गई और किसी स्थान पर मिट्टी खोदने लगी, तभी वहां एक सर्प निकला, जिसे बड़ी बहू खुरपी से मारने लगी। यह देखकर छोटी बहू ने बड़ी बहू को रोकते हुए कहा  "मत मारो इस सर्प को? यह बेचारा निरपराध है।"

छोटी बहू के कहने पर बड़ी बहू ने सर्प को नहीं मारा और सर्प एक ओर जाकर बैठ गया। तब छोटी बहू ने सर्प से कहा "हम अभी लौट कर आती हैं तुम यहां से कहीं जाना मत" इतना कहकर वह सबके साथ मिट्टी लेकर घर चली गई और घर के कामकाज में फँसकर सर्प से जो वादा किया था उसे भूल गई।

उसे दूसरे दिन वह बात याद आई तो सब बहूओं को साथ लेकर वहाँ पहुँची और सर्प को उस स्थान पर बैठा देखकर बोली "सर्प भैया नमस्कार!" सर्प ने कहा तू भैया कह चुकी है, इसलिए तुझे छोड़ देता हूं, नहीं तो झूठे वादे करने के कारण तुझे अभी डस लेता। छोटी बहू बोली भैया मुझसे भूल हो गई, उसकी क्षमा माँगती हूं, तब सर्प बोला- अच्छा, तू आज से मेरी बहिन हुई और मैं तेरा भाई हुआ। तुझे जो मांगना हो, माँग ले। वह बोली- भैया! मेरा कोई नहीं है, अच्छा हुआ जो तू मेरा भाई बन गया।

कुछ दिन व्यतीत होने पर वह सर्प मनुष्य का रूप धरकर उसके घर आया और बोला कि "मेरी बहिन को बुला दो, मैं उसे लेने आया हूँ" सबने कहा कि इसके तो कोई भाई नहीं था! तो वह बोला- मैं दूर के रिश्ते में इसका भाई हूँ, बचपन में ही बाहर चला गया था। उसके विश्वास दिलाने पर घर के लोगों ने छोटी को उसके साथ भेज दिया। उसने मार्ग में बताया कि "मैं वहीं सर्प हूँ, इसलिए तू डरना नहीं और जहां चलने में कठिनाई हो वहां मेरा हाथ पकड़ लेना। उसने कहे अनुसार ही किया और इस प्रकार वह उसके घर पहुंच गई। वहाँ के धन-ऐश्वर्य को देखकर वह चकित हो गई।

वह सर्प परिवार अके साथ आनंद से रहने लगी। एक दिन सर्प की माता ने उससे कहा "मैं एक काम से बाहर जा रही हूँ, तू अपने भाई को ठंडा दूध पिला देना। उसे यह बात ध्यान न रही और उससे गलति से गर्म दूध पिला दिया, जिसमें उसका मुहँ बुरी तरह जल गया। यह देखकर सर्प की माता बहुत क्रोधित हुई। परंतु सर्प के समझाने पर माँ चुप हो गई। तब सर्प ने कहा कि बहिन को अब उसके घर भेज देना चाहिए। तब सर्प और उसके पिता ने उसे भेट स्वरुप बहुत सा सोना, चाँदी, जवाहरात, वस्त्र-भूषण आदि देकर उसके घर पहुँचा दिया।

साथ लाया ढेर सारा धन देखकर बड़ी बहू ने ईर्षा से कहा तुम्हारां भाई तो बड़ा धनवान है, तुझे तो उससे और भी धन लाना चाहिए। सर्प ने यह वचन सुना तो सब वस्तुएँ सोने की लाकर दे दीं। यह देखकर बड़ी बहू की लालच बढ़ गई उसने फिर कहा "इन्हें झाड़ने की झाड़ू भी सोने की होनी चाहिए" तब सर्प ने झाडू भी सोने की लाकर रख दी।

सर्प ने अपने बहिन को हीरा-मणियों का एक अद्भुत हार दिया था। उसकी प्रशंसा उस देश की रानी ने भी सुनी और वह राजा से बोली कि "सेठ की छोटी बहू का हार यहाँ आना चाहिए।" राजा ने मंत्री को हुक्म दिया कि उससे वह हार लेकर शीघ्र उपस्थित हो मंत्री ने सेठजी से जाकर कहा कि "महारानीजी ने छोटी बहू का हार मंगवाया हैं, तो वह हार अपनी बहू से लेकर मुझे दे दो"। सेठजी ने डर के कारण छोटी बहू से हार मंगाकर दे दिया।

छोटी बहू को यह बात बहुत बुरी लगी, उसने अपने सर्प भाई को याद किया और आने पर प्रार्थना की- भैया ! रानी ने मेरा हार छीन लिया है, तुम कुछ ऐसा करो कि जब वह हार उसके गले में रहे, तब तक के लिए सर्प बन जाए और जब वह मुझे लौटा दे तब वह पुनः हीरों और मणियों का हो जाए। सर्प ने ठीक वैसा ही किया। जैसे ही रानी ने हार पहना, वैसे ही वह सर्प बन गया। यह देखकर रानी चीख पड़ी और रोने लगी।

यह देख कर राजा ने सेठ के पास खबर भेजी कि छोटी बहू को तुरंत भेजो। सेठजी डर गए कि राजा न जाने क्या करेगा? वे स्वयं छोटी बहू को साथ लेकर उपस्थित हुए। राजा ने छोटी बहू से पूछा "तुने क्या जादू किया है, मैं तुझे दण्ड दूंगा।" छोटी बहू बोली "राजन ! धृष्टता क्षमा कीजिए" यह हार ही ऐसा है कि मेरे गले में हीरों और मणियों का रहता है और दूसरे के गले में सर्प बन जाता है। यह सुनकर राजा ने वह सर्प बना हार उसे देकर कहा- अभी पहनकर दिखाओ। छोटी बहू ने जैसे ही उसे पहना वैसे ही हीरों-मणियों का हो गया।

यह देखकर राजा को उसकी बात का विश्वास हो गया और उसने प्रसन्न होकर उसे भेट में बहुत सी मुद्राएं भी पुरस्कार में दीं। छोटी वह अपने हार और भेट सहित घर लौट आई। उसके धन को देखकर बड़ी बहू ने ईर्षा के कारण उसके पति को सिखाया कि छोटी बहू के पास कहीं से धन आया है। यह सुनकर उसके पति ने अपनी पत्नी को बुलाकर कहा सच-सच बताना कि यह "धन तुझे कौन देता है?" तब वह सर्प को याद करने लगी।

तब उसी समय सर्प ने प्रकट होकर कहा यदि मेरी धर्म बहिन के आचरण पर संदेह प्रकट करेगा तो मैं उसे डंस लूँगा। यह सुनकर छोटी बहू का पति बहुत प्रसन्न हुआ और उसने सर्प देवता का बड़ा सत्कार किया। मान्यता हैं की उसी दिन से नागपंचमी का त्योहार मनाया जाता है और स्त्रियाँ सर्प को भाई मानकर उसकी पूजा करती हैं।

गुरुत्व ज्योतिष ई पत्रीका अगस्त 2014 में प्रकशित लेख GURUTVA JYOTISH AUGUST-2014

August-2014 free monthly Astrology Magazines, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article absolutely free of cost.
गुरुत्व ज्योतिष ई पत्रीका अगस्त -2014 में प्रकशित लेख
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेष
Shri Krishna Janmashtami 2014- Janmashtami in hindi, shri krushna, Shree Krishna Janmotsav, shree krishna story, Krishana Mantra, Krishna Yantra, Krushna Kavach, Kawach of Shree Krishna, Krushna Janm katha, Janama Katha, Krushna Bisa Yantra, कृष्ण जन्माष्टमी, कृष्ण जन्माष्टमी पर्व, व्रत कथा, श्रीकृष्ण जन्म कथा, मंत्र यंत्र, कवच, जैन पर्युषण पर्व, महावीर स्वामी जन्म वांचन, नवकार मंत्र, नवकार मन्त्र, नवकार महामंत्र, सनस्कार महामंत्र, चोबीस तीर्थंकर, जैन पर्यूषण महापर्व, घंटाकर्ण महावीर महा यंत्र, घंटाकर्ण महावीर महा पतका यंत्र, स्नान-दान-व्रत हेतु उत्तम श्रावणी पूर्णिमा, रक्षाबंधन, रक्षाबन्धन, राखी पूर्णीमा, राखि पूनम, राखी पुनम, श्रावणी उपाकर्म, गायत्री जयंती, नारयली पूर्णिमा, कृष्ण जन्माष्टमी व्रत, क्रिष्ण जन्माष्टमी व्रत, आद्याकाली जयंती, कालाष्टमी व्रत, जन्माष्टमी व्रत, गोकुलाष्टमी, श्री कृष्ण जन्मोत्सव,  कृष्ण बीसा यंत्र, कृष्न बिसा यन्त्र જૈન પર્યુષણ પર્વ, મહાવીર સ્વામી જન્મ વાંચન, નવકાર મંત્ર, નવકાર મન્ત્ર, નવકાર મહામંત્ર, સનસ્કાર મહામંત્ર, ચોબીસ તીર્થંકર, જૈન પર્યૂષણ મહાપર્વ, ઘંટાકર્ણ મહાવીર મહા યંત્ર, ઘંટાકર્ણ મહાવીર મહા પતકા યંત્ર, સ્નાન-દાન-વ્રત હેતુ ઉત્તમ શ્રાવણી પૂર્ણિમા, રક્ષાબંધન, રક્ષાબન્ધન, રાખી પૂર્ણીમા, રાખિ પૂનમ, રાખી પુનમ, શ્રાવણી ઉપાકર્મ, ગાયત્રી જયંતી, નારયલી પૂર્ણિમા, કૃષ્ણ જન્માષ્ટમી વ્રત, ક્રિષ્ણ જન્માષ્ટમી વ્રત, આદ્યાકાલી જયંતી, કાલાષ્ટમી વ્રત, જન્માષ્ટમી વ્રત, ગોકુલાષ્ટમી, શ્રી કૃષ્ણ જન્મોત્સવ,  કૃષ્ણ બીસા યંત્ર, કૃષ્ન બિસા યન્ત્ર
अनुक्रम
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेषांक में पढे़
नाग पंचमी का धार्मिक महत्व
7
पुत्रदा एकादशी व्रत 07-अगस्त-2014 (गुरुवार
9
पुत्रदा (पवित्रा) एकादशी व्रत की पौराणिक कथा
12
अजा (जया) एकादशी व्रत की पौराणिक कथा
14
हिन्दू संस्कृति में कृष्ण जन्माष्टमी व्रत का महत्व
15
कृष्ण जन्माष्टमी व्रत की पौराणिक कथा
17
भारतीय संस्कृति में राखी पूर्णिमा का महत्व
21
राखी पूर्णिमा से जुडि पौराणिक कथाएं
23
कृष्ण के मुख में ब्रह्मांड दर्शन
25
शंख ध्वनि से रोग भगाएं !
26
कृष्ण स्मरण का आध्यात्मिक महत्व
29
श्री कृष्ण का नामकरण संस्कार
30
श्रीकृष्ण चालीसा
31
विप्रपत्नीकृत श्रीकृष्णस्तोत्र
32
प्राणेश्वर श्रीकृष्ण मंत्र
33
ब्रह्मा रचित कृष्णस्तोत्र
34
श्रीकृष्णाष्टकम्
35
मनोकामना पूर्ति हेतु विभिन्न कृष्ण मंत्र
36
कृष्ण मंत्र
37
पर्यूषण महापर्व का महत्व
38
श्री नवकार मंत्र (नमस्कार महामंत्र)
39
देवदर्शन स्तोत्रम्
40
भगवान महावीर की माता त्रिशला के अद्भुत स्वप्न
41
विभिन्न चमत्कारी जैन मंत्र
43
जैन धर्म के चौबीस तीर्थंकारों के जीवन का
47
श्री मंगलाष्टक स्तोत्र (जैन)
48
अथ नवग्रह शांति स्तोत्र (जैन)
48
महावीराष्टक-स्तोत्रम्
49
महावीर चालीसा
50
जब महावीर ने एक ज्योतिषी को कहां तुम्हारी
51
गौतम केवली महाविद्या (प्रश्नावली)
52
शीघ्र कामना पूर्ति हेतु इष्ट पूजन में करे सही
56
कहीं आपकी कुंडली में ऋणग्रस्त होने के योग
58
हमारे उत्पाद
सर्व कार्य सिद्धि कवच
11
मंत्र सिद्ध स्फटिक श्री यंत्र
16
श्रीकृष्ण बीसा यंत्र / कवच
28
मंत्र सिद्ध पन्ना गणेश
34
मंत्र सिद्ध दुर्लभ सामग्री/मंत्र सिद्ध माला
37
विद्या प्राप्ति हेतु सरस्वती कवच और यंत्र
55
मंत्र सिद्ध भाग्य लक्ष्मी डिब्बी
60
मंत्र सिद्ध पारद प्रतिमा
62
मंत्र सिद्ध गोमति चक्र
63
हमारे विशेष यंत्र/ विभिन्न लक्ष्मी यंत्र
64
सर्वसिद्धिदायक मुद्रिका
65
द्वादश महा यंत्र
66
पुरुषाकार शनि यंत्र /शनि तैतिसा यंत्र
73
नवरत्न जड़ित श्री यंत्र
74
वाहन दुर्घटना नाशक मारुति यंत्र/ श्री हनुमान यंत्र 
75
विभिन्न देवताओं के यंत्र
76
राशि रत्न
78
मंत्र सिद्ध रूद्राक्ष
79
जैन धर्मके विशिष्ट यंत्रो की सूची81
81
घंटाकर्ण महावीर सर्व सिद्धि महायंत्र
82
अमोघ महामृत्युंजय कवच
83
सर्व रोगनाशक यंत्र/कवच
91
मंत्र सिद्ध कवच सूचि
93
YANTRA LIST
94
Gemstone Price List
96
सूचना
97
स्थायी लेख
संपादकीय
4
अगस्त 2014 मासिक पंचांग
69
अगस्त 2014  मासिक व्रत-पर्व-त्यौहार
74
अगस्त 2014 -विशेष योग
87
दैनिक शुभ एवं अशुभ समय ज्ञान तालिका
87
दिन-रात के चौघडिये
88
दिन-रात  कि होरा
89
ग्रह चलन अगस्त -2014
90

 GURUTVAJYOTISH E-MAGAZINE AUGUST-2014


(File Size : 5.99 MB)
(If you Show Truble with this link Click on  Below Link)


Option 1 :
>> Download Magazine From Google Docs Click Above Link,
>> Wait For Open Magazine,
>> After Magazine Opening Complete Click Ctrl + S

Option 2 :
>> Download Magazine From Google Docs Click Above Link,
>> Wait For Open Magazine,
>> After Open Magazine Go to >> File Option  (See File Option Are Avilable Below Heading GURUTVA JYOTISH AUG-2014.pdf,  From your Left Hand)
>> In File Option




>> Find Download Option and Click on Download to start Downloading

Still You Facing Trouble Mail Us: E-Mail Us (Click On Link)

>> Rapidshare, MEGAUPLOAD, DEPOSITFILES, HOTFILE, Uploading,  zSHARE,Filesonic, Fileserver, wupload, Uploadhere, Uploadking, Megaupload, Multiupload
>>  
ई मेल द्वारा हमारे नये लेख प्राप्त करने हेतु नीचे अपना ई-मेल प्रता भरें।
Receive an email notification our new post on Blog, Sumbit Your EmailID Below.
Subscribe to GURUTVA JYOTISH



Powered by us.groups.yahoo.com
Mantra siddha Lakshmi Ganesh Yantra, Shri Dhan Laxmi Yantra, Pran Pratishthit Subhlabh Yantras, abhimantrit, Lakshmi Ganesh Yantra, ganesh lakshmi mantra, Divine laxmi ganesh yantra, Shree Yantra In Copper, Silver, Pure Gold, Maha lakshmai Bisha Yantra, Dayak Siddha Bisa Yantra, Kanak Dhara, Vaibhav Lakshmi, Mahan Siddhi Dayak Shri Mahalakshmi Yantra In Odisha, Shri Shri Yantra in Orissa, Shree Jayeshtha Lakshmi Mantra Poojan Yantra, Dhanda Yantra, Sri Yantra, Yantra, Yantras, Crystal, Sphatik, Sfatik, yantras, Mantra Siddha Yantra For Good Wealth, Health, Happyness, Shri Jantra, Shree Chakra Yantra, Sampoorn Shree Yantra, Sampurn Lakshmi Yantra In Bhubaneswar, Laxmi Bisa Lakshmi Ganesh Yantra, Shree Lakshmi Yantra, Siddh Yantras, 24K Gold Plated યંત્ર, ધન કુબેર યંત્ર, ಮಂತ್ರ ಸಿದ್ಧ ಯಂತ್ರ, ಪೂಜಾ ಯನ್ತ್ರ, ಪೂಜನ ಯಂತ್ರಮ್, ಸಂಪೂರ್ಣ ಶ್ರೀ ಯಂತ್ರ, ಶ್ರೀ ಯನ್ತ್ರ, ಸಮ್ಪೂರ್ಣ ಶ್ರೀ ಯಂತ್ರ, ಮಂತ್ರ ಸಿದ್ಧಿ ಯಂತ್ರಮ್, ಸಂಪುರ್ಣ ಶ್ರೀ ಯಂತ್ರ, ಮೇರು ಪೃಷ್ಟ, ಮೇರು ಪುಷ್ಟ, ಸುಮೇರು ಶ್ರೀ ಯಂತ್ರ, ಸೂಮೇರು, ಶುಮೇರು, ಶ್ರೀ ಯಂತ್ರ, ಶ್ರೀ ಮಹಾಲಕ್ಷ್ಮೈ ಬೀಸಾ ಯನ್ತ್ರ, ಮಹಾ ಲಕ್ಷ್ಮೈ ಬೀಶಾ ಯಂತ್ರ, ಮಹಾಲಕ್ಷ್ಮೀ ಯನ್ತ್ರ, ಮಹಾ ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಯಂತ್ರ, ಬೀಸಾ ಯನ್ತ್ರ, ಮಹಾ ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಯಂತ್ರ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಬಿಸಾ ಯಂತ್ರ, ಲಕ್ಷ್ಮಿ ಬೀಸಾ ಯಂತ್ರ, ಬೀಶಾ ಯಂತ್ರ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ವಿಶಾ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಬಿಸಾ ಯಂತ್ರ, மம்த்ர ஸித்த யம்த்ர, பூஜா யந்த்ர, பூஜந யம்த்ரம், ஸம்பூர்ண ஶ்ரீ யம்த்ர, ஶ்ரீ யந்த்ர, ஸம்பூர்ண ஶ்ரீ யம்த்ர, மம்த்ர ஸித்தி யம்த்ரம், ஸம்புர்ண ஶ்ரீ யம்த்ர, மேரு ப்ருஷ்ட, மேரு புஷ்ட, ஸுமேரு ஶ்ரீ யம்த்ர, ஸூமேரு, ஶுமேரு, ஶ்ரீ யம்த்ர, ஶ்ரீ மஹாலக்ஷ்மை பீஸா யந்த்ர, மஹா லக்ஷ்மை பீஶா யம்த்ர, மஹாலக்ஷ்மீ யந்த்ர, மஹா லக்ஷ்மீ யம்த்ர, பீஸா யந்த்ர, மஹா லக்ஷ்மீ யம்த்ர, லக்ஷ்மீ பிஸா யம்த்ர, லக்ஷ்மி பீஸா யம்த்ர, பீஶா யம்த்ர, லக்ஷ்மீ விஶா, லக்ஷ்மீ பிஸா யம்த்ர, మంత్ర సిద్ధ యంత్ర, పూజా యన్త్ర, పూజన యంత్రమ్, సంపూర్ణ శ్రీ యంత్ర, శ్రీ యన్త్ర, సమ్పూర్ణ శ్రీ యంత్ర, మంత్ర సిద్ధి యంత్రమ్, సంపుర్ణ శ్రీ యంత్ర, మేరు పృష్ట, మేరు పుష్ట, సుమేరు శ్రీ యంత్ర, సూమేరు, శుమేరు, శ్రీ యంత్ర, శ్రీ మహాలక్ష్మై బీసా యన్త్ర, మహా లక్ష్మై బీశా యంత్ర, మహాలక్ష్మీ యన్త్ర, మహా లక్ష్మీ యంత్ర, బీసా యన్త్ర, మహా లక్ష్మీ యంత్ర, లక్ష్మీ బిసా యంత్ర, లక్ష్మి బీసా యంత్ర, బీశా యంత్ర, లక్ష్మీ విశా, లక్ష్మీ బిసా యంత్ర, മംത്ര സിദ്ധ യംത്ര, പൂജാ യന്ത്ര, പൂജന യംത്രമ്, സംപൂര്ണ ശ്രീ യംത്ര, ശ്രീ യന്ത്ര, സമ്പൂര്ണ ശ്രീ യംത്ര, മംത്ര സിദ്ധി യംത്രമ്, സംപുര്ണ ശ്രീ യംത്ര, മേരു പൃഷ്ട, മേരു പുഷ്ട, സുമേരു ശ്രീ യംത്ര, സൂമേരു, ശുമേരു, ശ്രീ യംത്ര, ശ്രീ മഹാലക്ഷ്മൈ ബീസാ യന്ത്ര, മഹാ ലക്ഷ്മൈ ബീശാ യംത്ര, മഹാലക്ഷ്മീ യന്ത്ര, മഹാ ലക്ഷ്മീ യംത്ര, ബീസാ യന്ത്ര, മഹാ ലക്ഷ്മീ യംത്ര, ലക്ഷ്മീ ബിസാ യംത്ര, ലക്ഷ്മി ബീസാ യംത്ര, ബീശാ യംത്ര, ലക്ഷ്മീ വിശാ, ലക്ഷ്മീ ബിസാ യംത്ര, ਮਂਤ੍ਰ ਸਿੱਧ ਯਂਤ੍ਰ, ਪੂਜਾ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਪੂਜਨ ਯਂਤ੍ਰਮ੍, ਸਂਪੂਰ੍ਣ ਸ਼੍ਰੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਸ਼੍ਰੀ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਸਮ੍ਪੂਰ੍ਣ ਸ਼੍ਰੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਮਂਤ੍ਰ ਸਿੱਧਿ ਯਂਤ੍ਰਮ੍, ਸਂਪੁਰ੍ਣ ਸ਼੍ਰੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਮੇਰੁ ਪ੍ਰੁਸ਼੍ਟ, ਮੇਰੁ ਪੁਸ਼੍ਟ, ਸੁਮੇਰੁ ਸ਼੍ਰੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਸੂਮੇਰੁ, ਸ਼ੁਮੇਰੁ, ਸ਼੍ਰੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਸ਼੍ਰੀ ਮਹਾਲਕ੍ਸ਼੍ਮੈ ਬੀਸਾ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਮਹਾ ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੈ ਬੀਸ਼ਾ ਯਂਤ੍ਰ, ਮਹਾਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਮਹਾ ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਬੀਸਾ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਮਹਾ ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਯਂਤ੍ਰ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਬਿਸਾ ਯਂਤ੍ਰ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮਿ ਬੀਸਾ ਯਂਤ੍ਰ, ਬੀਸ਼ਾ ਯਂਤ੍ਰ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਵਿਸ਼ਾ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ