Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, मई 16, 2011

ज्योतिष द्वारा रोग निदान

जन्म कुंडली रोग निदान, जन्म पत्रिका रोग निवारण, जातक रोग, होरोस्कोप रोग, जनम पत्रि स्वास्थ्य, आयुर्वेद रोग, जन्म कुण्डली रोगके समय का ज्ञान, ग्रहों का शरीर के अंग पर प्रभाव और रोग, रोग के प्रभाव का समय, रोग शान्ति के उपाय, रोग शांति, रोग निवारणજન્મ કુંડલી રોગ નિદાન, જન્મ પત્રિકા રોગ નિવારણ, જાતક રોગ, હોરોસ્કોપ રોગ, જનમ પત્રિ સ્વાસ્થ્ય, આયુર્વેદ રોગ, જન્મ કુણ્ડલી રોગકે સમય કા જ્ઞાન, ગ્રહોં કા શરીર કે અંગ પર પ્રભાવ ઔર રોગ, રોગ કે પ્રભાવ કા સમય, રોગ શાન્તિ કે ઉપાય, રોગ શાંતિ, રોગ નિવારણ, જન્માક્ષર રોગ, ಜನ್ಮ ಕುಂಡಲೀ ರೋಗ ನಿದಾನ, ಜನ್ಮ ಪತ್ರಿಕಾ ರೋಗ ನಿವಾರಣ, ಜಾತಕ ರೋಗ, ಹೋರೋಸ್ಕೋಪ ರೋಗ, ಜನಮ ಪತ್ರಿ ಸ್ವಾಸ್ಥ್ಯ, ಆಯುರ್ವೇದ ರೋಗ, ಜನ್ಮ ಕುಣ್ಡಲೀ ರೋಗಕೇ ಸಮಯ ಕಾ ಜ್ಞಾನ, ಗ್ರಹೋಂ ಕಾ ಶರೀರ ಕೇ ಅಂಗ ಪರ ಪ್ರಭಾವ ಔರ ರೋಗ, ರೋಗ ಕೇ ಪ್ರಭಾವ ಕಾ ಸಮಯ, ರೋಗ ಶಾನ್ತಿ ಕೇ ಉಪಾಯ, ರೋಗ ಶಾಂತಿ, ರೋಗ ನಿವಾರಣ, ஜந்ம கும்டலீ ரோக நிதாந, ஜந்ம பத்ரிகா ரோக நிவாரண, ஜாதக ரோக, ஹோரோஸ்கோப ரோக, ஜநம பத்ரி ஸ்வாஸ்த்ய, ஆயுர்வேத ரோக, ஜந்ம குண்டலீ ரோககே ஸமய கா ஜ்ஞாந, க்ரஹோம் காரீர கே அம்க பர ப்ரபாவ ஔர ரோக, ரோக கே ப்ரபாவ கா ஸமய, ரோகாந்தி கே உபாய, ரோகாம்தி, ரோக நிவாரண, జన్మ కుండలీ రోగ నిదాన, జన్మ పత్రికా రోగ నివారణ, జాతక రోగ, హోరోస్కోప రోగ, జనమ పత్రి స్వాస్థ్య, ఆయుర్వేద రోగ, జన్మ కుణ్డలీ రోగకే సమయ కా జ్ఞాన, గ్రహోం కా శరీర కే అంగ పర ప్రభావ ఔర రోగ, రోగ కే ప్రభావ కా సమయ, రోగ శాన్తి కే ఉపాయ, రోగ శాంతి, రోగ నివారణ, ജന്മ കുംഡലീ രോഗ നിദാന, ജന്മ പത്രികാ രോഗ നിവാരണ, ജാതക രോഗ, ഹോരോസ്കോപ രോഗ, ജനമ പത്രി സ്വാസ്ഥ്യ, ആയുര്വേദ രോഗ, ജന്മ കുണ്ഡലീ രോഗകേ സമയ കാ ജ്ഞാന, ഗ്രഹോം കാ ശരീര കേ അംഗ പര പ്രഭാവ ഔര രോഗ, രോഗ കേ പ്രഭാവ കാ സമയ, രോഗ ശാന്തി കേ ഉപായ, രോഗ ശാംതി, രോഗ നിവാരണ, ਜਨ੍ਮ ਕੁਂਡਲੀ ਰੋਗ ਨਿਦਾਨ, ਜਨ੍ਮ ਪਤ੍ਰਿਕਾ ਰੋਗ ਨਿਵਾਰਣ, ਜਾਤਕ ਰੋਗ, ਹੋਰੋਸ੍ਕੋਪ ਰੋਗ, ਜਨਮ ਪਤ੍ਰਿ ਸ੍ਵਾਸ੍ਥ੍ਯ, ਆਯੁਰ੍ਵੇਦ ਰੋਗ, ਜਨ੍ਮ ਕੁਣ੍ਡਲੀ ਰੋਗਕੇ ਸਮਯ ਕਾ ਜ੍ਞਾਨ, ਗ੍ਰਹੋਂ ਕਾ ਸ਼ਰੀਰ ਕੇ ਅਂਗ ਪਰ ਪ੍ਰਭਾਵ ਔਰ ਰੋਗ, ਰੋਗ ਕੇ ਪ੍ਰਭਾਵ ਕਾ ਸਮਯ, ਰੋਗ ਸ਼ਾਨ੍ਤਿ ਕੇ ਉਪਾਯ, ਰੋਗ ਸ਼ਾਂਤਿ, ਰੋਗ ਨਿਵਾਰਣ, জন্ম কুংডলী রোগ নিদান, জন্ম পত্রিকা রোগ নিৱারণ, জাতক রোগ, হোরোস্কোপ রোগ, জনম পত্রি স্ৱাস্থ্য, আযুর্ৱেদ রোগ, জন্ম কুণ্ডলী রোগকে সময কা জ্ঞান, গ্রহোং কা শরীর কে অংগ পর প্রভাৱ ঔর রোগ, রোগ কে প্রভাৱ কা সময, রোগ শান্তি কে উপায, রোগ শাংতি, রোগ নিৱারণଜନ୍ମ କୁଂଡଲୀ ରୋଗ ନିଦାନ, ଜନ୍ମ ପତ୍ରିକା ରୋଗ ନିବାରଣ, ଜାତକ ରୋଗ, ହୋରୋସ୍କୋପ ରୋଗ, ଜନମ ପତ୍ରି ସ୍ବାସ୍ଥ୍ଯ, ଆଯୁ୍ର୍ବେଦ ରୋଗ, ଜନ୍ମ କୁଣ୍ଡଲୀ ରୋଗକେ ସମଯ କା ଜ୍ଞାନ, ଗ୍ରହୋଂ କା ଶରୀର କେ ଅଂଗ ପର ପ୍ରଭା ଔର ରୋଗ, ରୋଗ କେ ପ୍ରଭା କା ସମଯ, ରୋଗ ଶାନ୍ତି କେ ଉପାଯ, ରୋଗ ଶାଂତି, ରୋଗ ନିବାରଣ, janma kuMndai roga nidana, janma patrika roga nivarana, jataka roga, horoskopa roga, janama patri svasthya, Ayurveda roga, janma kundai va rogake samaya kA gnna, grahom ka Sarira ke anga para prabhava aura roga, roga ke prabhava ka samaya, roga Shanti ke upaya, roga Shanti, roga nivarana, Healing horoscope, horoscope prevention, zodiac disease, Horoscop disease, birth chart Health, Ayurveda disease, birth horoscope and Arogce time, knowledge of planetary effects on the body part and disease, while the impact of disease, disease of peace Measures, disease, peace, disease preventio

ज्योतिष द्वारा रोग निदान

मत्स्य पुराण के अनुशार देवताओं और राक्षसों ने जब समुद्र मंथन किया था धन तेरस के दिन धनवंतरी नामक देवता अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए थे। धनवंतरी धन, स्वास्थय व आयु के अधिपति देवता हैं। धनवंतरी को देवों के वैध व चिकित्सक के रुप में जाना जाता हैं।
धनवंतरी ही सृष्टी के सर्व प्रथम चिकित्सक माने जाते हैं। श्री धनवंतरी ने ही आयुर्वेद को प्रतिष्ठित किया था। उनके बाद में ऋषि चरक जैसे अनेक आयुर्वेदाचार्य हो, गये। जिन्हों ने मनुष्य मात्र के स्वास्थ्य की देखरेख के लिए कार्य किये। इसी कारण प्राचीन काल में अधितर व्यक्ति का स्वस्थ उत्तम रहता था।
क्योकि प्राचिन कालमें प्रायः सभी चिकित्सक आयुर्वेद के साथ-साथ ज्योतिष का भी विशेष ज्ञान रखते थे। इसी लिए चिकित्सक बीमारी का परीक्षण ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार सरलता से कर लेते थे। आज के आधुनिक युग के चिकित्सक को भी ज्योतिष विद्या का ज्ञान रखना चाहिए जिससे वे सरलता से प्रायः सभी रोगो का निदान करके रोगी की उपयुक्त चिकित्सा करने में पूर्णतः सक्षम हों सके।
ज्योतिष के अनुशार हर ग्रह और राशि मानव शरीर पर अपना विशेष प्रभाव रखते हैं, इस लिए उसे जानना भी अति आवश्यक हैं। सामान्यतः जन्म कुंडली में जो राशि अथवा जो ग्रह छठे, आठवें, या बारहवें स्थान से पीड़ित हो अथवा छठे, आठवें, या बारहवें स्थानों के स्वामी हो कर पीड़ित होरहे हो, तो उनसे संबंधित बीमारी की संभावना अधिक रहती हैं। जन्म कुंडली के अनुसार प्रत्येक स्थान और राशि से मानव शरीर के कौन-कौन से अंग प्रभावित होते हैं, उनसे संबंधित जानकारी दी जा रही हैं।

जन्मकुंडली से रोग निदान
ज्योतिष शास्त्र एवं आयुर्वेद के अनुसार मनुष्य द्वारा पूर्वकाल में किये गयें कर्मो का फल ही व्यक्ति के शरीर में विभिन्न रोगों के रूप में प्रगट होतें हैं।
हरित सहिंता के अनुशार:
जन्मान्तर कृतम् पापम् व्याधिरुपेण बाधते।
तच्छान्तिरौषधैर्दानर्जपहोमसुरार्चनैः॥
अर्थातः पूर्व जन्म में किया गये पाप कर्म ही व्याधि के रूप में हमारे शरीर में उत्पन्न हो कर कष्टकारी हो जाता हैं। तथा औषध, दान, जप, होम व देवपूजा से रोग की शांति होती हैं।
आयुर्वेद के जानकारो की माने तो कर्मदोष को ही रोग की उत्पत्ति का कारण माना गया हैं।

आयुर्वेद में कर्म के मुख्य तीन भेद माने गए हैं:
• एक हैं सन्चित कर्म
• दूसरा हैं प्रारब्ध कर्म
• तीसरा हैं क्रियमाण
आयुर्वेद के अनुसार मनुष्य के संचित कर्म ही कर्म जनित रोगों के प्रमुख कारण होते हैं
जिसे व्यक्ति प्रारब्ध के रूप में भोगता हैं।
वर्तमान समय में मनुष्य के द्वारा किये जाने वाला कर्म ही क्रियमाण होता हैं।
वर्तमान काल में अनुचित आहार-विहार के कारण भी शरीर में रोग उत्पन्न हो जाते हैं।
आयुर्वेद आचार्य सुश्रुत, चरक व त्रिष्ठाचार्य के मतानुसार ……………..>>

जन्म कुंडली से रोग व रोगके समय का ज्ञान
भारतीय ज्योतिषाचार्य हजारो वर्ष पूर्व ही जन्म कुंडली के माध्यम से यह ज्ञात करने में पूर्णताः सक्षम थे कि किसी व्यक्ति को कब तथा क्या बीमारी हो सकती हैं।
ज्योतिषशास्त्रो से प्राप्त ज्ञान एवं अभीतक हुएं ……………..>>

ग्रहों से सम्बंधित शरीर के अंग और रोग
यदि नवग्रह में से कोई ग्रह शत्रु राशि-नीच राशिः नवांश में, षड्बलहींन, पापयुक्त, पाप ग्रह से दृष्ट, त्रिकभाव में स्थित हों, तो संबंधित ग्रह अपने कारकत्व से सम्बंधित रोग उत्पन्न करते हैं। नव ग्रहों से सम्बंधित अंग, धातु और रोग इस प्रकार हैं।

रोग के प्रभाव का समय
पीड़ा कारक ग्रह अपनी ऋतू में, अपने वार में, मासेश होने पर अपने मास में, वर्षेश होने पर अपने वर्ष में, अपनी महादशा, अन्तर्दशा, प्रत्यंतर दशा एवं सूक्षम दशा में रोग कारक होते हैं। गोचर में पीड़ित ……………..>>

रोग शान्ति के उपाय
ग्रहों की विंशोत्तरी दशा तथा गोचर स्थिति से वर्तमान या भविष्य में होने वाले रोग को समय से पूर्व अनुमान लगा कर पीडाकारक ग्रहों से संबंधित दान, जप, हवन, यंत्र, कवच, व रत्न ……………..>>

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष ई-पत्रिका मई-2011 का अंक पढें।

इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।



>> http://gk.yolasite.com/resources/GURUTVA%20JYOTISH%20MAY-2011.pdf  
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें