Search

लोड हो रहा है. . .

शुक्रवार, सितंबर 23, 2011

आश्विन नवरात्रि घट स्थापना मुहूर्त, विधि-विधान (28 सितम्बर 2011)

Ashwin Navratri Ghat (Kalas) Sthapana Muhurt,Vidhi Vidhan (28-September-2011)saardiya navratra sep-2011, Ashwin navratra,Ghatasthapna, Ghat Sthapna performed, muharat, muhrat, auspicious tima for Ghat Sthapan, Ghat sthapana, Ashwin Navratri, auspicious time for kalash sthapan, sharad-navratri, navratri, second-navratri, navratri-2011, navratri-puja, navratra-story,  third-navratri, fourth-navratri, navratri-festival, navratri-pooja, navratri puja-2011,  Durga Pooja, durga pooja 201, ashvin Navratri Celebrations 28 sep 2011, नवरात्र घट स्थापन- 2011, नवरात्र कलश स्थापन, मुहूर्त, मूहूर्त, नवरात्र व्रत, नवरात्र प्रारम्भ, नवरात्र महोत्सव, नवरात्र पर्व, नवरात्रि, नवरात्री, नवरात्रि पूजन विधि, नवरात्रि के दौरान, નવરાત્ર ઘટ સ્થાપન- 2011, નવરાત્ર કલશ સ્થાપન, મુહૂર્ત, મૂહૂર્ત, નવરાત્ર વ્રત, નવરાત્ર પ્રારમ્ભ, નવરાત્ર મહોત્સવ, નવરાત્ર પર્વ, નવરાત્રિ, નવરાત્રી, નવરાત્રિ પૂજન વિધિ, નવરાત્રિ કે દૌરાન, ನವರಾತ್ರ ಘಟ ಸ್ಥಾಪನ- 2011, ನವರಾತ್ರ ಕಲಶ ಸ್ಥಾಪನ, ಮುಹೂರ್ತ, ಮೂಹೂರ್ತ, ನವರಾತ್ರ ವ್ರತ, ನವರಾತ್ರ ಪ್ರಾರಮ್ಭ, ನವರಾತ್ರ ಮಹೋತ್ಸವ, ನವರಾತ್ರ ಪರ್ವ, ನವರಾತ್ರಿ, ನವರಾತ್ರೀ, ನವರಾತ್ರಿ ಪೂಜನ ವಿಧಿ, ನವರಾತ್ರಿ ಕೇ ದೌರಾನ, நவராத்ர கட ஸ்தாபந- 2011, நவராத்ர கலஶ ஸ்தாபந, முஹூர்த, மூஹூர்த, நவராத்ர வ்ரத, நவராத்ர ப்ராரம்ப, நவராத்ர மஹோத்ஸவ, நவராத்ர பர்வ, நவராத்ரி, நவராத்ரீ, நவராத்ரி பூஜந விதி, நவராத்ரி கே தௌராந, నవరాత్ర ఘట స్థాపన- 2011, నవరాత్ర కలశ స్థాపన, ముహూర్త, మూహూర్త, నవరాత్ర వ్రత, నవరాత్ర ప్రారమ్భ, నవరాత్ర మహోత్సవ, నవరాత్ర పర్వ, నవరాత్రి, నవరాత్రీ, నవరాత్రి పూజన విధి, నవరాత్రి కే దౌరాన, നവരാത്ര ഘട സ്ഥാപന- 2011, നവരാത്ര കലശ സ്ഥാപന, മുഹൂര്ത, മൂഹൂര്ത, നവരാത്ര വ്രത, നവരാത്ര പ്രാരമ്ഭ, നവരാത്ര മഹോത്സവ, നവരാത്ര പര്വ, നവരാത്രി, നവരാത്രീ, നവരാത്രി പൂജന വിധി, നവരാത്രി കേ ദൗരാന, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਘਟ ਸ੍ਥਾਪਨ- 2011, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਕਲਸ਼ ਸ੍ਥਾਪਨ, ਮੁਹੂਰ੍ਤ, ਮੂਹੂਰ੍ਤ, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਵ੍ਰਤ, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਪ੍ਰਾਰਮ੍ਭ, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਮਹੋਤ੍ਸਵ, ਨਵਰਾਤ੍ਰ ਪਰ੍ਵ, ਨਵਰਾਤ੍ਰਿ, ਨਵਰਾਤ੍ਰੀ, ਨਵਰਾਤ੍ਰਿ ਪੂਜਨ ਵਿਧਿ, ਨਵਰਾਤ੍ਰਿ ਕੇ ਦੌਰਾਨ, নৱরাত্র ঘট স্থাপন- 2011, নৱরাত্র কলশ স্থাপন, মুহূর্ত, মূহূর্ত, নৱরাত্র ৱ্রত, নৱরাত্র প্রারম্ভ, নৱরাত্র মহোত্সৱ, নৱরাত্র পর্ৱ, নৱরাত্রি, নৱরাত্রী, নৱরাত্রি পূজন ৱিধি, নৱরাত্রি কে দৌরান, ନବରାତ୍ର ଘଟ ସ୍ଥାପନ- 2011, ନବରାତ୍ର କଲଶ ସ୍ଥାପନ, ମୁହୂର୍ତ, ମୂହୂର୍ତ, ନଵରାତ୍ର ଵ୍ରତ, ନଵରାତ୍ର ପ୍ରାରମ୍ଭ, ନଵରାତ୍ର ମହୋତ୍ସଵ, ନଵରାତ୍ର ପର୍ଵ, ନଵରାତ୍ରି, ନଵରାତ୍ରୀ, ନଵରାତ୍ରି ପୂଜନ ଵିଧି, ନଵରାତ୍ରି କେ ଦୌରାନ,
आश्विन शुक्ल प्रतिपदा अर्थात नवरात्री का पहला दिन। इसी दिन से ही आश्विनी नवरात्र का प्रारंभ होता हैं। जो अश्विन शुक्ल नवमी को समाप्त होते हैं, इन नौ दिनों देवि दुर्गा की विशेष आराधना करने का विधान हमारे शास्त्रो में बताया गया हैं। परंतु इस वर्ष तृतिया तिथी का क्षय होने के कारण नवरात्र नौ दिन की जगह आठ दिनो के होंगे। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH,
पारंपरिक पद्धति के अनुशास नवरात्रि के पहले दिन घट अर्थात कलश की स्थापना करने का विधान हैं। इस कलश में ज्वारे(अर्थात जौ और गेहूं ) बोया जाता है। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 

घट स्थापनकी शास्त्रोक्त विधि इस प्रकार हैं।  GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 
घट स्थापना आश्विन प्रतिपदा के दिन कि जाती हैं।
घट स्थापना हेतु चित्रा नक्षत्र और वैधृतियोग को वर्जित माना गया हैं। (चित्रा नक्षत्र 28 सितंबर 2011 को दोपहर 01:37:33 बजे से लग रहा हैं।) घट स्थापना में चित्रा नक्षत्र को निषेध माना गया हैं। अतः घट स्थापना इससे पूर्व करना शुभ होता हैं।
विद्वनो के मत से इस वर्ष शुक्ल प्रतिपदा से शुरू होने वाले शारदीय नवरात्र में सूर्योदयी नक्षत्र हस्त नक्षत्र रहेगा। हस्त नक्षत्र को पूजन हेतु उत्तम माना जाता हैं। हैं। इस लिये सूर्योदय से 6.12 बजे के बाद से ही कलश (घट) की स्थापना करना शुभदायक रहेगा।

यदि ऎसे योग बन रहे हो, तो घट स्थापना दोपहर में अभिजित मुहूर्त या अन्य शुभ मुहूर्त में करना उत्तम रहता हैं। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 

कलश स्थापना हेतु शुभ मुहूर्त
  • लाभ मुहूर्त सुबह 06:12 से 07:42 तक
  • अमृत मुहूर्त सुबह 07:42 से 09:12 तक
  • शुभ मुहूर्त सुबह 10:42 से 12:12 तक
  • के मुहूर्त घट स्थापना का श्रेष्ठ मुहूर्त रहेंगे। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 

घट स्थापना हेतु सर्वप्रथम स्नान इत्यादि के पश्चयात गाय के गोबर से पूजा स्थल का लेपन करना चाहिए। घट स्थापना हेतु शुद्ध मिट्टी से वेदी का निर्माण करना चाहिए, फिर उसमें जौ और गेहूं बोएं तथा उस पर अपनी इच्छा के अनुसार मिट्टी, तांबे, चांदी या सोने का कलश स्थापित करना चाहिए। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 
यदि पूर्ण विधि-विधान से घट स्थापना करना हो तो पंचांग पूजन (अर्थात गणेश-अंबिका, वरुण, षोडशमातृका, सप्तघृतमातृका, नवग्रह आदि देवों का पूजन) तथा पुण्याहवाचन (मंत्रोंच्चार) विद्वान ब्राह्मण द्वारा कराएं अथवा अमर्थता हो, तो स्वयं करें।
पश्चयात देवी की मूर्ति स्थापित करें तथा देवी प्रतिमाका षोडशोपचारपूर्वक पूजन करें। इसके बाद श्रीदुर्गासप्तशती का संपुट अथवा साधारण पाठ करना चाहिए। पाठ की पूर्णाहुति के दिन दशांश हवन अथवा दशांश पाठ करना चाहिए। GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 
घट स्थापना के साथ दीपक की स्थापना भी की जाती है। पूजा के समय घी का दीपक जलाएं तथा उसका गंध, चावल, व पुष्प से पूजन करना चाहिए।
पूजन के समय इस मंत्र का जप करें- GURUTVA KARYALAY, GURUTVA JYOTISH, 
भो दीप ब्रह्मरूपस्त्वं ह्यन्धकारनिवारक।
इमां मया कृतां पूजां गृह्णंस्तेज: प्रवर्धय।।


कलश स्थापना की संपूर्ण-विधि गुरुत्व ज्योतिष मासिक पत्रिका के अक्टूबर-2011 के अंक में उप्लब्ध हैं।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें