Search

लोड हो रहा है. . .

गुरुवार, अगस्त 25, 2011

श्री नवकार मंत्र (नमस्कार महामंत्र)

श्री नवकार मंत्र (नमस्कार महामंत्र)
लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (अगस्त-2011)
 नवकार मंत्र समस्त जैन धर्मावलंबियो का मुख्य मंत्र है।

नमो अरिहंताणं
नमो सिद्धाणं
नमो आयरियाणं
नमो उवज्झायाणं
नमो लोएसव्वसाहूणं

एसो पंच नमुक्कारो
सव्व पावप्पणासणो
मंगलाणं च सव्वेसिं
पढमं हवई मंगलं
अर्थ:
मैं अरिहंत भगवंतों को नमन करता हूं।
मैं सिद्ध भगवंतों को नमन करता हूं।
मैं आचार्य भगवंतों को नमन करता हूं।
मैं उपाध्याय भगवंतों को नमन करता हूं।
मैं लोक में रहे हुए सभी साधु भगवंतों को नमन करता हूं।
इन पांचों को किया हुआ नमस्कार
सभी पापों को नष्ट करता हैं।
एवं सभी मंगलों में भी
प्रथम (श्रेष्ठ) मंगल हैं।

जैन मुनियों के मत से नवकार महामंत्र जैन धर्म का सिद्ध एवं अत्यंत प्रभावशाली मंत्र हैं। इस मंत्र में समस्त रिद्धियाँ और सिद्धियाँ विद्यमान हैं। हर जैन धर्म के अनुयायी नवकार मंत्र का जप करता हैं।
नवकार महामंत्र अथवा नमस्कार महामंत्र में जिस परमेष्ठी भगवन्तों की आराधना की जाती है उन भगवन्तों में तप, त्याग, संयम, वैराग्य इत्यादि सात्विक गुण होते हैं। नवकार मंत्र के माध्यम से अरिहंत, सिद्ध, आचार्य, उपाध्याय और साधु, इन पाँच भगवंतों को परम इष्ट माना हैं। इसलिये इनको नमन करने की विधि को नवकार महामंत्र अथवा नमस्कार महामंत्र कहा जाता है। वैसे तो हर मंत्र अपने आप में रहस्य लिये होता है, परंतु नवकार महामंत्र तो परम रहस्यमय हैं।  
नवकार महामंत्र के अति दिव्य प्रताप से साधक के समस्त दुःख सुख में बदल जाता हैं।
            जैन विद्वानो के मत से नवकार मंत्र के स्मरण, चिन्तन, मनन और उच्चारण से ही मनुष्य के जन्म-जन्मांतरों के पापों से मुक्त हो कर उसे शाश्वत सुख प्राप्त होता हैं। 

नवकार मंत्र जप के लाभ
  • जब कोई व्यक्ति श्रद्धा पूर्ण भाव से नवकार मंत्र का केवल एक अक्षर उच्चरण करता हैं, तो उसके 7 सागरोपम जितने पापो का नाश होता हैं
  • जब कोई व्यक्ति "नमो अरिहंताणं" का उच्चरण करत्ता हैंतो ……………..>>

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष -पत्रिका अगस्त-2011 का अंक पढें
इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।
>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (अगस्त-2011)
AUG-2011

>> http://gk.yolasite.com/resources/GURUTVA%20JYOTISH%20AUG-2011.pdf
नवकार मंत्र, नवकार मन्त्र, नवकार महामंत्र, नमस्कार महामंत्र, संस्कार महामंत्र, चोबीस तीर्थंकर, जैन पर्यूषण महापर्वजैन पर्युषण पर्व, महावीर स्वामी जन्म वांचन, भगवान महावीर, घंटाकर्ण महावीर महा यंत्र, घंटाकर्ण महावीर महा पतका यंत्र, navakar mantr, navakar mantrm, navakar mahamantr, namaskar mahamantra, sanskar mahamantr, chobis tIrthankar, jain paryushan mahaparv,  jain paryushan parv, mahavir svami janm vanchan, Mahaveer swami janma vanchan Bagavan mahavir, Gantakarn mahavir maha yantr, Gantakarn mahavir maha pataka yantr, નવકાર મંત્ર, નવકાર મન્ત્ર, નવકાર મહામંત્ર, નમસ્કાર મહામંત્ર, સંસ્કાર મહામંત્ર, ચોબીસ તીર્થંકર, જૈન પર્યૂષણ મહાપર્વજૈન પર્યુષણ પર્વ, મહાવીર સ્વામી જન્મ વાંચન, ભગવાન મહાવીર, ઘંટાકર્ણ મહાવીર મહા યંત્ર, ઘંટાકર્ણ મહાવીર મહા પતકા યંત્ર, ನವಕಾರ ಮಂತ್ರ, ನವಕಾರ ಮನ್ತ್ರ, ನವಕಾರ ಮಹಾಮಂತ್ರ, ನಮಸ್ಕಾರ ಮಹಾಮಂತ್ರ, ಸಂಸ್ಕಾರ ಮಹಾಮಂತ್ರ, ಚೋಬೀಸ ತೀರ್ಥಂಕರ, ಜೈನ ಪರ್ಯೂಷಣ ಮಹಾಪರ್ವಜೈನ ಪರ್ಯುಷಣ ಪರ್ವ, ಮಹಾವೀರ ಸ್ವಾಮೀ ಜನ್ಮ ವಾಂಚನ, ಭಗವಾನ ಮಹಾವೀರ, ಘಂಟಾಕರ್ಣ ಮಹಾವೀರ ಮಹಾ ಯಂತ್ರ, ಘಂಟಾಕರ್ಣ ಮಹಾವೀರ ಮಹಾ ಪತಕಾ ಯಂತ್ರ, நவகார மம்த்ர, நவகார மந்த்ர, நவகார மஹாமம்த்ர, நமஸ்கார மஹாமம்த்ர, ஸம்ஸ்கார மஹாமம்த்ர, சோபீஸ தீர்தம்கர, ஜைந பர்யூஷண மஹாபர்வஜைந பர்யுஷண பர்வ, மஹாவீர ஸ்வாமீ ஜந்ம வாம்சந, பகவாந மஹாவீர, கம்டாகர்ண மஹாவீர மஹா யம்த்ர, கம்டாகர்ண மஹாவீர மஹா பதகா யம்த்ர, నవకార మంత్ర, నవకార మన్త్ర, నవకార మహామంత్ర, నమస్కార మహామంత్ర, సంస్కార మహామంత్ర, చోబీస తీర్థంకర, జైన పర్యూషణ మహాపర్వజైన పర్యుషణ పర్వ, మహావీర స్వామీ జన్మ వాంచన, భగవాన మహావీర, ఘంటాకర్ణ మహావీర మహా యంత్ర, ఘంటాకర్ణ మహావీర మహా పతకా యంత్ర, നവകാര മംത്ര, നവകാര മന്ത്ര, നവകാര മഹാമംത്ര, നമസ്കാര മഹാമംത്ര, സംസ്കാര മഹാമംത്ര, ചോബീസ തീര്ഥംകര, ജൈന പര്യൂഷണ മഹാപര്വജൈന പര്യുഷണ പര്വ, മഹാവീര സ്വാമീ ജന്മ വാംചന, ഭഗവാന മഹാവീര, ഘംടാകര്ണ മഹാവീര മഹാ യംത്ര, ഘംടാകര്ണ മഹാവീര മഹാ പതകാ യംത്ര, ਨਵਕਾਰ ਮਂਤ੍ਰ, ਨਵਕਾਰ ਮਨ੍ਤ੍ਰ, ਨਵਕਾਰ ਮਹਾਮਂਤ੍ਰ, ਨਮਸ੍ਕਾਰ ਮਹਾਮਂਤ੍ਰ, ਸਂਸ੍ਕਾਰ ਮਹਾਮਂਤ੍ਰ, ਚੋਬੀਸ ਤੀਰ੍ਥਂਕਰ, ਜੈਨ ਪਰ੍ਯੂਸ਼ਣ ਮਹਾਪਰ੍ਵਜੈਨ ਪਰ੍ਯੁਸ਼ਣ ਪਰ੍ਵ, ਮਹਾਵੀਰ ਸ੍ਵਾਮੀ ਜਨ੍ਮ ਵਾਂਚਨ, ਭਗਵਾਨ ਮਹਾਵੀਰ, ਘਂਟਾਕਰ੍ਣ ਮਹਾਵੀਰ ਮਹਾ ਯਂਤ੍ਰ, ਘਂਟਾਕਰ੍ਣ ਮਹਾਵੀਰ ਮਹਾ ਪਤਕਾ ਯਂਤ੍ਰ, নৱকার মংত্র, নৱকার মন্ত্র, নৱকার মহামংত্র, নমস্কার মহামংত্র, সংস্কার মহামংত্র, চোবীস তীর্থংকর, জৈন পর্যূষণ মহাপর্ৱজৈন পর্যুষণ পর্ৱ, মহাৱীর স্ৱামী জন্ম ৱাংচন, ভগৱান মহাৱীর, ঘংটাকর্ণ মহাৱীর মহা যংত্র, ঘংটাকর্ণ মহাৱীর মহা পতকা যংত্র, ନବକାର ମନ୍ତ୍ର, ନବକାର ମଂତ୍ର, ନଵକାର ମଂତ୍ର, ନଵକାର ମନ୍ତ୍ର, ନଵକାର ମହାମଂତ୍ର, ନମସ୍କାର ମହାମଂତ୍ର, ସଂସ୍କାର ମହାମଂତ୍ର, ଚୋବୀସ ତୀର୍ଥଂକର, ଜୈନ ପର୍ଯୂଷଣ ମହାପର୍ଵଜୈନ ପର୍ଯୁଷଣ ପର୍ଵ, ମହାବୀର ସ୍ବାମୀ ଜନ୍ମ ବାଂଚନ, ଭଗବାନ ମହବୀର, ଘଂଟାକର୍ଣ ମହାଵୀର ମହା ଯଂତ୍ର, ଘଂଟାକର୍ଣ ମହାବୀର ମହା ପତକା ଯଂତ୍ର, ପର୍ୟୁଷଣ ମହାପର୍ବ,

इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें