Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, अगस्त 22, 2011

श्रीकृष्ण की फोटो से समयाओं का समाधान भाग:1

shri krushn ki photo se samasya samadhan, krushn trouble ending,  कृष्ण जन्माष्टमी व्रत, क्रिष्ण जन्माष्टमी व्रत, आद्याकाली जयंती, कालाष्टमी व्रत, जन्माष्टमी व्रत, गोकुलाष्टमी, श्री कृष्ण जन्मोत्सव, કૃષ્ણ જન્માષ્ટમી વ્રત, ક્રિષ્ણ જન્માષ્ટમી વ્રત, આદ્યાકાલી જયંતી, કાલાષ્ટમી વ્રત, જન્માષ્ટમી વ્રત, ગોકુલાષ્ટમી, શ્રી કૃષ્ણ જન્મોત્સવ,   ಕೃಷ್ಣ ಜನ್ಮಾಷ್ಟಮೀ ವ್ರತ, ಕ್ರಿಷ್ಣ ಜನ್ಮಾಷ್ಟಮೀ ವ್ರತ, ಆದ್ಯಾಕಾಲೀ ಜಯಂತೀ, ಕಾಲಾಷ್ಟಮೀ ವ್ರತ, ಜನ್ಮಾಷ್ಟಮೀ ವ್ರತ, ಗೋಕುಲಾಷ್ಟಮೀ, ಶ್ರೀ ಕೃಷ್ಣ ಜನ್ಮೋತ್ಸವ, க்ருஷ்ண ஜந்மாஷ்டமீ வ்ரத, க்ரிஷ்ண ஜந்மாஷ்டமீ வ்ரத, ஆத்யாகாலீ ஜயம்தீ, காலாஷ்டமீ வ்ரத, ஜந்மாஷ்டமீ வ்ரத, கோகுலாஷ்டமீ, ஶ்ரீ க்ருஷ்ண ஜந்மோத்ஸவ,  కృష్ణ జన్మాష్టమీ వ్రత, క్రిష్ణ జన్మాష్టమీ వ్రత, ఆద్యాకాలీ జయంతీ, కాలాష్టమీ వ్రత, జన్మాష్టమీ వ్రత, గోకులాష్టమీ, శ్రీ కృష్ణ జన్మోత్సవ,  കൃഷ്ണ ജന്മാഷ്ടമീ വ്രത, ക്രിഷ്ണ ജന്മാഷ്ടമീ വ്രത, ആദ്യാകാലീ ജയംതീ, കാലാഷ്ടമീ വ്രത, ജന്മാഷ്ടമീ വ്രത, ഗോകുലാഷ്ടമീ, ശ്രീ കൃഷ്ണ ജന്മോത്സവ,  ਕ੍ਰੁਸ਼੍ਣ ਜਨ੍ਮਾਸ਼੍ਟਮੀ ਵ੍ਰਤ, ਕ੍ਰਿਸ਼੍ਣ ਜਨ੍ਮਾਸ਼੍ਟਮੀ ਵ੍ਰਤ, ਆਦ੍ਯਾਕਾਲੀ ਜਯਂਤੀ, ਕਾਲਾਸ਼੍ਟਮੀ ਵ੍ਰਤ, ਜਨ੍ਮਾਸ਼੍ਟਮੀ ਵ੍ਰਤ, ਗੋਕੁਲਾਸ਼੍ਟਮੀ, ਸ਼੍ਰੀ ਕ੍ਰੁਸ਼੍ਣ ਜਨ੍ਮੋਤ੍ਸਵ,  কৃষ্ণ জন্মাষ্টমী ৱ্রত, ক্রিষ্ণ জন্মাষ্টমী ৱ্রত, আদ্যাকালী জযংতী, কালাষ্টমী ৱ্রত, জন্মাষ্টমী ৱ্রত, গোকুলাষ্টমী, শ্রী কৃষ্ণ জন্মোত্সৱ, କୃଷ୍ଣ ଜନ୍ମାଷ୍ଟମୀ ବ୍ରତ, କ୍ରିଷ୍ଣ ଜନ୍ମାଷ୍ଟମୀ ବ୍ରତ, ଆଦ୍ଯାକାଲୀ ଜଯଂତୀ, କାଲାଷ୍ଟମୀ ବ୍ରତ, ଜନ୍ମାଷ୍ଟମୀ ବ୍ରତ, ଗୋକୁଲାଷ୍ଟମୀ, ଶ୍ରୀ କୃଷ୍ଣ ଜନ୍ମୋତ୍ସଵ, krushna janmasthami, shree  krushna janmasthamee, shri krushna janmasthami, shree  krushna janmasthamee Vrat, gokulashtami, shri krushna Janmotshav,
 श्रीकृष्ण की फोटो से समयाओं का समाधान भाग:1

जिस प्रकार भगवान श्री कृष्ण के नाम का स्मरण,चिंतन अनंत पापों का नाश करने वाला हैं।

सकृन्मनः कृष्णापदारविन्दयोर्निवेशितं तद्गुणरागि यैरिह।
ते यमं पाशभृतश्च तद्भटान् स्वप्नेऽपि पश्यन्ति हि चीर्णनिष्कृताः॥
भावार्थ: जो मनुष्य केवल एक बार श्रीकृष्ण के गुणों में प्रेम करने वाले अपने चित्त को श्रीकृष्ण के चरण कमलों में लगा देते हैं, वे पापों से छूट जाते हैं, फिर उन्हें पाश हाथ में लिए हुए यमदूतों के दर्शन स्वप्न में भी नहीं हो सकते।
अविस्मृतिः कृष्णपदारविन्दयोः क्षिणोत्यभद्रणि शमं तनोति च।
सत्वस्य शुद्धिं परमात्मभक्तिं ज्ञानं च विज्ञानविरागयुक्तम्‌॥
भावार्थ: श्रीकृष्ण के चरण कमलों का स्मरण सदा बना रहे तो उसी से पापों का नाश, कल्याण की प्राप्ति, अन्तः करण की शुद्धि, परमात्मा की भक्ति और वैराग्ययुक्त ज्ञान-विज्ञान की प्राप्ति अपने आप ही हो जाती हैं।
विद्वानो के मत से जिस प्रकार भगवान श्री कृष्ण के नाम का स्मरण करने मात्र से अनंत कोटी पापों का नाश होता हैं उसी प्रकार से भगवान श्री कृष्ण के दर्शन मात्र से मनुष्य के विभिन्न ताप-पाप का नाश होता हैं व उसके विभिन्न 
स्वरुप में दर्शन करने से विभिन्न मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।
धर्मशास्त्रो में भगवान श्रीकृष्ण के हर स्वरूप का वर्णन अति सुन्दर व शूक्ष्मता से किया गया है। विद्वानो के मत से भगवान श्रीकृष्ण के किसी भी स्वरूप के दर्शन से भक्तको सकारात्मक उर्जा प्राप्त होती है।
वास्तुशास्त्रीयों के मत से भी अपने भवन व व्यवसायीक स्थान पर श्री कृष्ण का चित्र लगाना अति शुभदायक माना गया हैं
  • उत्तम संतान सुख की कामना की पूर्ति हेतु श्रीकृष्ण के बालस्वरूप का चित्र शयनकक्ष में लगाना शुभ फलदायक होता हैं। (कृष्ण का फोटो स्त्री के सम्मुख लगाएं।)
  • पति-पत्नी में परस्पर प्रेम बढाने हेतु राधा-कृष्ण की प्रसन्न तस्वीर शयनकक्ष में लगाना शुभ फलदायक होता हैं।
  • यदि परिवार में बार-बार एक के बाद एक विभिन्न तरह की समस्याएं आरही होंतो वसुदेवजी द्वारा टोकरी में श्रीकृष्ण को लेकर नदी पार करने वाती तस्वीर लगाने से घर से कई तरह की समस्या दूर होने लगती है।
  • श्रीकृष्ण द्वार गोवर्धन पर्वत को उठाने वाली तस्वीर लगाने से विभिन्न समस्याओं से लडने की प्रेरणा प्राप्त होती हैं व समस्याएं शीघ्र दूर होती हैं।
  • भगवान श्रीकृष्ण की रासलीला वाली तस्वीर को भवन में पूर्व दिशा की और लगाने से परिवार के सदस्यो में निस्वार्थ प्रेम बढता हैं।
  • नोट: धर्मशास्त्रो के जानकारो के मत से अपने शयन कक्ष में पूजा स्थल रखना या अन्य देवी-देवताओं की तस्वीर लगाना वर्जित हैं। लेकिन राधा-कृष्ण का चित्र लगाया जासकता हैं।
क्रमशः.....

इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें