Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, फ़रवरी 07, 2011

विद्या प्राप्ति के लिए वास्तु के उपाय

परिक्षा में सफलता प्राप्ति हेतु वास्तु प्रयोग, परिक्षा में सफलता के हेतु वास्तु प्रयोग, परिक्षा में सफलता के टोटके, परिक्षा में सफलता के लिये हेतु वास्तु प्रयोग, परिक्षा में उत्तकिर्ण होने के सरल हेतु वास्तु प्रयोग, विद्या प्राप्ति के विलक्षण हेतु वास्तु प्रयोग, विद्या प्राप्ति के लिए वास्तु के उपाय, વિદ્યા પ્રાપ્તિ કે લિએ વાસ્તુ કે ઉપાય, ವಿದ್ಯಾ ಪ್ರಾಪ್ತಿ ಕೇ ಲಿಏ ವಾಸ್ತು ಕೇ ಉಪಾಯ, வித்யா ப்ராப்தி கே லிஏ வாஸ்து கே உபாய, విత్యా ప్రాప్తి కే లిఏ వాస్తు కే ఉపాయ, വിത്യാ പ്രാപ്തി കേ ലിഏ വാസ്തു കേ ഉപായ, ਵਿਤ੍ਯਾ ਪ੍ਰਾਪ੍ਤਿ ਕੇ ਲਿਏ ਵਾਸ੍ਤੁ ਕੇ ਉਪਾਯ, ৱিত্যা প্রাপ্তি কে লিএ ৱাস্তু কে উপায, ବିଦ୍ଯା ପ୍ରାପ୍ତି କେ ଲିଏ ବାସ୍ତୁ କେ ଉପାଯ vitya prapti ke lie vastu ke upay, Singular Vastu Remedy For achieve success in examination, Good Result , Vastu Remedy For Excellent success in Education, Vastu Remedy For Excellent success in Study, Vastu Remedy For Excellent knowlage, Singular Vastu Remedy of knowledge achievemen, Vastu Remedy For Excellent success in Education, Vastu Remedy For Excellent success in Study, Vastu Remedy For Excellent knowlage Vastu Remedy Remedy for Excellent success in Education, Vastu Remedy Remedy for Excellent success in Education, Vastu Remedy for Excellent success in Education,

विद्या प्राप्ति के लिए वास्तु के उपाय


विद्या अध्ययन करते समय आने वाले विघ्न-बाधा दूर कर उत्तम विद्या प्राप्त करने हेतु वास्तु से संबंधित उपायों से आपका मर्गदर्शन कर रहे है।
पढाई करते समय पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुख कर कर पढाई करें। विद्वानो के मत से पूर्व में मुख करके पढाई करने से सूर्य की सकारात्मक ऊर्जा ..............................
बच्चो का अध्ययन कक्ष ईशान कोण में अधिक...........
यदि ईशान कोण में अध्ययन कक्ष की सुविधा नतो तो ..................
पढाई मेज पर स्फटिक का श्री यंत्र स्थापीत करने से स्मरण शक्ति तीव्रे होती हैं एवं खराब विचार दूर होकर उत्तम प्रकार की चिंताधारा उत्पन्न होती हैं, एवं मां सरस्वती और लक्ष्मी का आशिर्वाद सदैव बना रेहता हैं।

पढाई मेज पर स्फटिक ग्लोब (क्रिस्टल ग्लोब) रखना भी लाभ दायक होता हैं। ग्लोब को रोज ..........
दरवाजे की ओर पीठ करके पढाई करने से .............
सीडी, बीम एवं सेल्फ के नीचे बैठकर अध्ययन करने से ................
अध्ययन कक्ष वायव्य कोण में होने से पढाई में एकाग्रता नहीं रहती एवं .......
अध्ययन कक्ष में टेलीफोन, टीवी, मोबाईल, अक्वेरियम, आईना, या अन्य गतिशील रहने वाली वस्तुएं, उच्च खपत वाले विद्युत उपकरण ................
अध्ययन कक्ष में कंप्यूटर को .................
अध्ययन कक्ष में हमेशा दक्षिण या पश्चिम की ओर ..................
बच्चो के विद्याध्ययन हेतु ईशान्य में अन्य कमरो से ............
अध्ययन कक्ष की दीवारों का रंग हल्का रखना .................
पढाई करने के पश्चयात किताबें .................
किताबें हमेशा सुव्यवस्थित रखे। यदि थोडे समय के लिये किताब रखकर कहीं जाना पडे तो ................
यदि अध्ययन कक्ष में स्नान गृह या शौचालय हो, तो ...............
एक से अधिक बच्चे घर में हो, तो अध्ययन कक्ष में परिवार ..........................  

वास्तु के इन उपायों को अपना कर विद्याभ्यास में आने वाली बाधाओं से सरलता से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है।

……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH February-2011

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष ई-पत्रिका फरवरी-2011 का अंक पढें।

इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।


>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (फरवरी-2011)
FEB-2011

>> http://gk.yolasite.com/resources/GURUTVA%20JYOTISH%20FEB-201.pdf
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें