Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, सितंबर 17, 2012

गणेश पूजन हेतु शुभ मुहूर्त (19 सितंबर 2012 बुधवार)

श्री गणेश पुजा-2012मूहुर्त, गणेश पूजन हेतु शुभ समय, 19-सितम्बर-2012 गणेश पूजन हेतु मुहूर्त, श्री गणपति पूजा मूहूर्त, गणपति पुजा-2012, सर्वप्रथम पूजनीय श्री गणेश, सर्वप्रथम पूजा गणेशजी की?, गणेश पूजन, सरल विधि से श्री गणेश पूजन, गणेश गायत्री मन्त्रअनंत चतुर्दशी व्रत उत्तम फलदायी होता हैं।, गणेशजी को दुर्वा-दल चढ़ाने का मंत्र, गणेश पूजन गणेश के चमत्कारी मन्त्र,गणेश के कल्याणकारी मन्त्र, गणेश पूजन ग्रहपीडा दूर होती हैं।गणेश यन्त्र, गणेश यंत्र, गणेश यंत्र, गणेश यंत्र (संपूर्ण बीज मंत्र सहित), गणेश सिद्ध यंत्र, लक्ष्मी गणेश यंत्र, एकाक्षर गणपति यंत्र, हरिद्रा गणेश यंत्र, स्फटिक गणेश, मंगल गणेश, पारद गणेश, पन्न गणेश, गणेश रुद्राक्ष, श्री गणेश पुजा-2012मूहुर्त, गणेश पूजन हेतु शुभ समय, 19-सितम्बर-2012 गणेश पूजन हेतु मुहूर्त, श्री गणपति पूजा मूहूर्त, गणपति पुजा-2012, सर्वप्रथम पूजनीय श्री गणेश, પૂજા ગણેશજી કી?, ગણેશ પૂજન, સરલ વિધિ સે શ્રી ગણેશ પૂજન, ગણેશ ગાયત્રી મન્ત્રઅનંત ચતુર્દશી વ્રત ઉત્તમ ફલદાયી હોતા હૈં|, ગણેશજી કો દુર્વા-દલ ચઢ઼્આને કા મંત્ર, ગણેશ પૂજન ગણેશ કે ચમત્કારી મન્ત્ર,ગણેશ કે કલ્યાણકારી મન્ત્ર, ગણેશ પૂજન ગ્રહપીડા દૂર હોતી હૈં|,  ગણેશ યન્ત્ર, ગણેશ યંત્ર, ગણેશ યંત્ર, ગણેશ યંત્ર (સંપૂર્ણ બીજ મંત્ર સહિત), ગણેશ સિદ્ધ યંત્ર, લક્ષ્મી ગણેશ યંત્ર, એકાક્ષર ગણપતિ યંત્ર, હરિદ્રા ગણેશ યંત્ર, સ્ફટિક ગણેશ, મંગલ ગણેશ, પારદ ગણેશ, પન્ન ગણેશ, ગણેશ રુદ્રાક્ષ, 19-september- 2012,  ganesh puja 2012,  ganesh festival 2012 date, ganesh chaturthi date, ganpati 2012 date, ganesh chaturthi 2011, when is vinayaka chaturthi in 2012, Ganesh Chaturthi 2012 Pooja Muhurat, Auspicious Time For Ganesh Pooja-2012, Auspicious Time For Ganapati poojan, Auspicious Time For shri Ganesha puja, Ganesh puja hetu shubh mahurt, Good time for Ganesh poojan, Crystal Ganesh, Mangal Ganesh, Munga Ganesh, Parad Ganesh, Emrald Ganesh, Panna Ganesh, Ganesh Rudraksh, ganesh chaturthi 2013 date, vinayagar chathurthi 2012,
गणेश पूजन हेतु शुभ मुहूर्त 
लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (सितम्बर-2012)

वैज्ञानिक पद्धति के अनुसार ब्रह्मांड में समय अनंत आकाश के अतिरिक्त समस्त वस्तुएं मर्यादा युक्त हैं। जिस प्रकार समय का ही कोई प्रारंभ है ही कोई अंत है। अनंत आकाश की भी समय की तरह कोई मर्यादा नहीं है। इसका कहीं भी प्रारंभ या अंत नहींहोता। आधुनिक मानव ने इन दोनों तत्वों को हमेशा समझने का अपने अनुसार इनमें भ्रमण करने का प्रयास किया हैं परन्तु उसे सफलता प्राप्त नहीं हुई है।
सामान्यतः मुहूर्त का अर्थ है किसी भी कार्य को करने के लिए सबसे शुभ समय तिथि चयन करना। कार्य पूर्णतः फलदायक हो इसके लि, समस्त ग्रहों अन्य ज्योतिष तत्वों का तेज इस प्रकार केन्द्रित किया जाता है कि वे दुष्प्रभावों को विफल कर देते हैं। वे मनुष्य की जन्म कुण्डली की समस्त बाधाओं को हटाने में दुर्योगो को दबाने या घटाने में सहायक होते हैं।
शुभ मुहूर्त ग्रहो का ऎसा अनूठा संगम है कि वह कार्य करने वाले व्यक्ति को पूर्णतः सफलता की ओर अग्रस्त कर देता है।
हिन्दू धर्म में शुभ कार्य केवल शुभ मुहूर्त देखकर किए जाने का विधान हैं। इसी विधान के अनुसार श्रीगणेश चतुर्थी के दिन भगवान श्रीगणेश की स्थापना के श्रेष्ठ मुहूर्त आपकी अनुकूलता हेतु दर्शाने का प्रयास किया जा रहा हैं। हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार शुभ मुहूर्त देखकर किए गए कार्य निश्चित शुभ सफलता देने वाले होते हैं।
श्रीगणेश चतुर्थी के लिये (19 सितंबर 2012 बुधवार)
प्रातः  6: 08 से 7:38 तक लाभ
सुबह 7: 38 से 9:08 तक अमृत
सुबह 10:38 से 12:08 तक शुभ
संध्याः  4:38 से 6:08 तक लाभ
अन्य शुभ समय
वृश्चिक लग्न में (10:36 से दोपहर 12:55 तक ) तथा कुंभ लग्न में (संध्या 04:41 से संध्या 06:09 तक) भगवान श्रीगणेश प्रतिमा की स्थापना की जा सकती हैं।
क्योंकि ज्योतिष के अनुशार वृश्चिक और कुंभ दोनों स्थिर लग्न हैं। स्थिर लग्न में किया गया कोई भी शुभ कार्य स्थाई होता हैं।
विद्वानो के मतानुशार शुभ प्रारंभ यानि आधा कार्य स्वतः पूर्ण।

You Can Also Read Other Ganesh Chaturthi Related Article in GURUTVA JYOTISH  Sep-2012

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष -पत्रिका सितम्बर-2012 का अंक पढें।
इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।
>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (सितम्बर-2012)

Sep-2012

>
ಶ್ರೀ ಗಣೇಶ ಪುಜಾ-2012,  ಮೂಹುರ್ತ, ಗಣೇಶ ಪೂಜನ ಹೇತು ಶುಭ ಸಮಯ, 19-ಸಿತಮ್ಬರ-2012 ಗಣೇಶ ಪೂಜನ ಹೇತು ಮುಹೂರ್ತ, ಶ್ರೀ ಗಣಪತಿ ಪೂಜಾ ಮೂಹೂರ್ತ, ಗಣಪತಿ ಪುಜಾ-2012 ,ಸರ್ವಪ್ರಥಮ ಪೂಜನೀಯ ಶ್ರೀ ಗಣೇಶ, ಸರ್ವಪ್ರಥಮ ಪೂಜಾ ಗಣೇಶಜೀ ಕೀ?, ಗಣೇಶ ಪೂಜನ, ಸರಲ ವಿಧಿ ಸೇ ಶ್ರೀ ಗಣೇಶ ಪೂಜನ, ಗಣೇಶ ಗಾಯತ್ರೀ ಮನ್ತ್ರಅನಂತ ಚತುರ್ದಶೀ ವ್ರತ ಉತ್ತಮ ಫಲದಾಯೀ ಹೋತಾ ಹೈಂ|, ಗಣೇಶಜೀ ಕೋ ದುರ್ವಾ-ದಲ ಚಢ಼್ಆನೇ ಕಾ ಮಂತ್ರ, ಗಣೇಶ ಪೂಜನ ಗಣೇಶ ಕೇ ಚಮತ್ಕಾರೀ ಮನ್ತ್ರ,ಗಣೇಶ ಕೇ ಕಲ್ಯಾಣಕಾರೀ ಮನ್ತ್ರ, ಗಣೇಶ ಪೂಜನ ಗ್ರಹಪೀಡಾ ದೂರ ಹೋತೀ ಹೈಂ|ಗಣೇಶ ಯನ್ತ್ರ, ಗಣೇಶ ಯಂತ್ರ, ಗಣೇಶ ಯಂತ್ರ, ಗಣೇಶ ಯಂತ್ರ (ಸಂಪೂರ್ಣ ಬೀಜ ಮಂತ್ರ ಸಹಿತ), ಗಣೇಶ ಸಿದ್ಧ ಯಂತ್ರ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಗಣೇಶ ಯಂತ್ರ, ಏಕಾಕ್ಷರ ಗಣಪತಿ ಯಂತ್ರ, ಹರಿದ್ರಾ ಗಣೇಶ ಯಂತ್ರ, ಸ್ಫಟಿಕ ಗಣೇಶ, ಮಂಗಲ ಗಣೇಶ, ಪಾರದ ಗಣೇಶ, ಪನ್ನ ಗಣೇಶ, ಗಣೇಶ ರುದ್ರಾಕ್ಷ,  ஶ்ரீ கணேஶ புஜா-2012,  மூஹுர்த, கணேஶ பூஜந ஹேது ஶுப ஸமய, 19-ஸிதம்பர-2012 கணேஶ பூஜந ஹேது முஹூர்த, ஶ்ரீ கணபதி பூஜா மூஹூர்த, கணபதி புஜா-2012 ,ஸர்வப்ரதம பூஜநீய ஶ்ரீ கணேஶ, ஸர்வப்ரதம பூஜா கணேஶஜீ கீ?, கணேஶ பூஜந, ஸரல விதி ஸே ஶ்ரீ கணேஶ பூஜந, கணேஶ காயத்ரீ மந்த்ரஅநம்த சதுர்தஶீ வ்ரத உத்தம பலதாயீ ஹோதா ஹைம்|, கணேஶஜீ கோ துர்வா-தல சடாநே கா மம்த்ர, கணேஶ பூஜந கணேஶ கே சமத்காரீ மந்த்ர,கணேஶ கே கல்யாணகாரீ மந்த்ர, கணேஶ பூஜந க்ரஹபீடா தூர ஹோதீ ஹைம்|கணேஶ யந்த்ர, கணேஶ யம்த்ர, கணேஶ யம்த்ர, கணேஶ யம்த்ர (ஸம்பூர்ண பீஜ மம்த்ர ஸஹித), கணேஶ ஸித்த யம்த்ர, லக்ஷ்மீ கணேஶ யம்த்ர, ஏகாக்ஷர கணபதி யம்த்ர, ஹரித்ரா கணேஶ யம்த்ர, ஸ்படிக கணேஶ, மம்கல கணேஶ, பாரத கணேஶ, பந்ந கணேஶ, கணேஶ ருத்ராக்ஷ,  శ్రీ కణేశ పుజా-2012,  మూహుర్త, కణేశ పూజన హేతు శుప సమయ, 19-సితమ్పర-2012 కణేశ పూజన హేతు ముహూర్త, శ్రీ కణపతి పూజా మూహూర్త, కణపతి పుజా-2012 ,సర్వప్రతమ పూజనీయ శ్రీ కణేశ, సర్వప్రతమ పూజా కణేశజీ కీ?, కణేశ పూజన, సరల వితి సే శ్రీ కణేశ పూజన, కణేశ కాయత్రీ మన్త్రఅనమ్త చతుర్తశీ వ్రత ఉత్తమ పలతాయీ హోతా హైమ్|, కణేశజీ కో తుర్వా-తల చటానే కా మమ్త్ర, కణేశ పూజన కణేశ కే చమత్కారీ మన్త్ర,కణేశ కే కల్యాణకారీ మన్త్ర, కణేశ పూజన క్రహపీటా తూర హోతీ హైమ్|కణేశ యన్త్ర, కణేశ యమ్త్ర, కణేశ యమ్త్ర, కణేశ యమ్త్ర (సమ్పూర్ణ పీజ మమ్త్ర సహిత), కణేశ సిత్త యమ్త్ర, లక్ష్మీ కణేశ యమ్త్ర, ఏకాక్షర కణపతి యమ్త్ర, హరిత్రా కణేశ యమ్త్ర, స్పటిక కణేశ, మమ్కల కణేశ, పారత కణేశ, పన్న కణేశ, కణేశ రుత్రాక్ష,  ശ്രീ കണേശ പുജാ-2012,  മൂഹുര്ത, കണേശ പൂജന ഹേതു ശുപ സമയ, 19-സിതമ്പര-2012 കണേശ പൂജന ഹേതു മുഹൂര്ത, ശ്രീ കണപതി പൂജാ മൂഹൂര്ത, കണപതി പുജാ-2012 ,സര്വപ്രതമ പൂജനീയ ശ്രീ കണേശ, സര്വപ്രതമ പൂജാ കണേശജീ കീ?, കണേശ പൂജന, സരല വിതി സേ ശ്രീ കണേശ പൂജന, കണേശ കായത്രീ മന്ത്രഅനമ്ത ചതുര്തശീ വ്രത ഉത്തമ പലതായീ ഹോതാ ഹൈമ്|, കണേശജീ കോ തുര്വാ-തല ചടാനേ കാ മമ്ത്ര, കണേശ പൂജന കണേശ കേ ചമത്കാരീ മന്ത്ര,കണേശ കേ കല്യാണകാരീ മന്ത്ര, കണേശ പൂജന ക്രഹപീടാ തൂര ഹോതീ ഹൈമ്|കണേശ യന്ത്ര, കണേശ യമ്ത്ര, കണേശ യമ്ത്ര, കണേശ യമ്ത്ര (സമ്പൂര്ണ പീജ മമ്ത്ര സഹിത), കണേശ സിത്ത യമ്ത്ര, ലക്ഷ്മീ കണേശ യമ്ത്ര, ഏകാക്ഷര കണപതി യമ്ത്ര, ഹരിത്രാ കണേശ യമ്ത്ര, സ്പടിക കണേശ, മമ്കല കണേശ, പാരത കണേശ, പന്ന കണേശ, കണേശ രുത്രാക്ഷ,  ਸ਼੍ਰੀ ਕਣੇਸ਼ ਪੁਜਾ-2012,  ਮੂਹੁਰ੍ਤ, ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ ਹੇਤੁ ਸ਼ੁਪ ਸਮਯ, 19-ਸਿਤਮ੍ਪਰ-2012 ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ ਹੇਤੁ ਮੁਹੂਰ੍ਤ, ਸ਼੍ਰੀ ਕਣਪਤਿ ਪੂਜਾ ਮੂਹੂਰ੍ਤ, ਕਣਪਤਿ ਪੁਜਾ-2012 ,ਸਰ੍ਵਪ੍ਰਤਮ ਪੂਜਨੀਯ ਸ਼੍ਰੀ ਕਣੇਸ਼, ਸਰ੍ਵਪ੍ਰਤਮ ਪੂਜਾ ਕਣੇਸ਼ਜੀ ਕੀ?, ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ, ਸਰਲ ਵਿਤਿ ਸੇ ਸ਼੍ਰੀ ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ, ਕਣੇਸ਼ ਕਾਯਤ੍ਰੀ ਮਨ੍ਤ੍ਰਅਨਮ੍ਤ ਚਤੁਰ੍ਤਸ਼ੀ ਵ੍ਰਤ ਉੱਤਮ ਪਲਤਾਯੀ ਹੋਤਾ ਹੈਮ੍|, ਕਣੇਸ਼ਜੀ ਕੋ ਤੁਰ੍ਵਾ-ਤਲ ਚਟਾਨੇ ਕਾ ਮਮ੍ਤ੍ਰ, ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ ਕਣੇਸ਼ ਕੇ ਚਮਤ੍ਕਾਰੀ ਮਨ੍ਤ੍ਰ,ਕਣੇਸ਼ ਕੇ ਕਲ੍ਯਾਣਕਾਰੀ ਮਨ੍ਤ੍ਰ, ਕਣੇਸ਼ ਪੂਜਨ ਕ੍ਰਹਪੀਟਾ ਤੂਰ ਹੋਤੀ ਹੈਮ੍|ਕਣੇਸ਼ ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਕਣੇਸ਼ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਕਣੇਸ਼ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਕਣੇਸ਼ ਯਮ੍ਤ੍ਰ (ਸਮ੍ਪੂਰ੍ਣ ਪੀਜ ਮਮ੍ਤ੍ਰ ਸਹਿਤ), ਕਣੇਸ਼ ਸਿੱਤ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਕਣੇਸ਼ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਏਕਾਕ੍ਸ਼ਰ ਕਣਪਤਿ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਹਰਿਤ੍ਰਾ ਕਣੇਸ਼ ਯਮ੍ਤ੍ਰ, ਸ੍ਪਟਿਕ ਕਣੇਸ਼, ਮਮ੍ਕਲ ਕਣੇਸ਼, ਪਾਰਤ ਕਣੇਸ਼, ਪੰਨ ਕਣੇਸ਼, ਕਣੇਸ਼ ਰੁਤ੍ਰਾਕ੍ਸ਼,  শ্রী কণেশ পুজা-2012,  মূহুর্ত, কণেশ পূজন হেতু শুপ সময, 19-সিতম্পর-2012 কণেশ পূজন হেতু মুহূর্ত, শ্রী কণপতি পূজা মূহূর্ত, কণপতি পুজা-2012 ,সর্ৱপ্রতম পূজনীয শ্রী কণেশ, সর্ৱপ্রতম পূজা কণেশজী কী?, কণেশ পূজন, সরল ৱিতি সে শ্রী কণেশ পূজন, কণেশ কাযত্রী মন্ত্রঅনম্ত চতুর্তশী ৱ্রত উত্তম পলতাযী হোতা হৈম্|, কণেশজী কো তুর্ৱা-তল চটানে কা মম্ত্র, কণেশ পূজন কণেশ কে চমত্কারী মন্ত্র,কণেশ কে কল্যাণকারী মন্ত্র, কণেশ পূজন ক্রহপীটা তূর হোতী হৈম্|কণেশ যন্ত্র, কণেশ যম্ত্র, কণেশ যম্ত্র, কণেশ যম্ত্র (সম্পূর্ণ পীজ মম্ত্র সহিত), কণেশ সিত্ত যম্ত্র, লক্শ্মী কণেশ যম্ত্র, একাক্শর কণপতি যম্ত্র, হরিত্রা কণেশ যম্ত্র, স্পটিক কণেশ, মম্কল কণেশ, পারত কণেশ, পন্ন কণেশ, কণেশ রুত্রাক্শ,  ଶ୍ରୀ କଣେଶ ପୁଜା-2012,  ମୂହୁର୍ତ, କଣେଶ ପୂଜନ ହେତୁ ଶୁପ ସମଯ, 19-ସିତମ୍ପର-2012 କଣେଶ ପୂଜନ ହେତୁ ମୁହୂର୍ତ, ଶ୍ରୀ କଣପତି ପୂଜା ମୂହୂର୍ତ, କଣପତି ପୁଜା-2012 ,ସର୍ଵପ୍ରତମ ପୂଜନୀଯ ଶ୍ରୀ କଣେଶ, ସର୍ଵପ୍ରତମ ପୂଜା କଣେଶଜୀ କୀ?, କଣେଶ ପୂଜନ, ସରଲ ଵିତି ସେ ଶ୍ରୀ କଣେଶ ପୂଜନ, କଣେଶ କାଯତ୍ରୀ ମନ୍ତ୍ରଅନମ୍ତ ଚତୁର୍ତଶୀ ଵ୍ରତ ଉତ୍ତମ ପଲତାଯୀ ହୋତା ହୈମ୍|, କଣେଶଜୀ କୋ ତୁର୍ଵା-ତଲ ଚଟାନେ କା ମମ୍ତ୍ର, କଣେଶ ପୂଜନ କଣେଶ କେ ଚମତ୍କାରୀ ମନ୍ତ୍ର,କଣେଶ କେ କଲ୍ଯାଣକାରୀ ମନ୍ତ୍ର, କଣେଶ ପୂଜନ କ୍ରହପୀଟା ତୂର ହୋତୀ ହୈମ୍|,  କଣେଶ ଯନ୍ତ୍ର, କଣେଶ ଯମ୍ତ୍ର, କଣେଶ ଯମ୍ତ୍ର, କଣେଶ ଯମ୍ତ୍ର (ସମ୍ପୂର୍ଣ ପୀଜ ମମ୍ତ୍ର ସହିତ), କଣେଶ ସିତ୍ତ ଯମ୍ତ୍ର, ଲକ୍ଶ୍ମୀ କଣେଶ ଯମ୍ତ୍ର, ଏକାକ୍ଶର କଣପତି ଯମ୍ତ୍ର, ହରିତ୍ରା କଣେଶ ଯମ୍ତ୍ର, ସ୍ପଟିକ କଣେଶ, ମମ୍କଲ କଣେଶ, ପାରତ କଣେଶ, ପନ୍ନ କଣେଶ, କଣେଶ ରୁତ୍ରାକ୍ଶ,




इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें