Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, सितंबर 24, 2012

श्री गणेश पूजन से रोग मुक्ति


रोग मुक्ति हेतु गणेश मंत्र, मन्त्र जप से रोग मुक्ति,  रोग मुक्ति हेतु मन्त्र, गणपति मन्त्र से रोग मुक्ति, गणेश जी का रोग मुक्ति मन्त्र, Mantra For Freedom from Health Disease, Chant for freedom from Health Disease, Chant for freedom from ill Health, Rog Hetu Ganesh Mantra, Manta Jaap Se Rog Mukti, રોગ સે મુક્તિ હેતુ મંત્ર, મન્ત્ર જપ સે રોગ મુક્તિ, રોગ મુક્તિ હેતુ મન્ત્ર, ગણપતિ મન્ત્ર સે રોગ મુક્તિ, ગણેશ જી કા રોગ મુક્તિ મન્ત્રMaha Mrityunjaya Kawach, Energized Rog Nivaran Kavach,  Mahamrityunjaya Yantra Locket, Mahamritunjay Yantra for Good health,  Maha Mritunjay Yantra, Mritunjay Yantra, Mahamritunjay Yantras, Buy maha mrityunjaya yantra, Sri Maha Mrityunjaya Yantra, Shri Maha Mrityunjaya Yantra and Shree Maha Mrityunjaya Yantra With Pran Pratistha (pooja) of mahmritunjay, 24 Carat Gold plated Mahamrityunjaya Yantra, Sri Maha Mrityunjaya is a yantra to free the fear of death, Grave dangers,  Mahamritunjay Yantra, Maha Mrityunjaya Yantra, Mahamrityunjaya Shiva Yantras, Sree Maha Mrityunjaya Mantra , Energized Yantras, Yantra, Yantras, Yantra For Pooja, महा मृत्युन्जय यन्त्रश्री महामृत्युंजय महायंत्रश्री महा मृत्युंजय यंत्रमरोग निवारण हेतु महामृत्युंजय यंत्र,
श्री गणेश पूजन से रोग मुक्ति
 लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (सितम्बर-2012)
गं रोग मुक्तये फट्।
भयानक असाध्य रोगों से परेशानी होने पर, उचित ईलाज कराने पर भी लाभ प्राप्त नहीं होरहा हो, तो पूर्ण विश्वास सें मंत्र का जाप करने से या जानकार व्यक्ति से जाप करवाने से धीरे-धीरे रोगी को रोग से छुटकारा मिलता हैं।
जप विधि 
Maha Mrutyunjay Yantra Buy Online Click Here
प्रात: स्नानादि शुद्ध होकर कुश या ऊन के आसन पर पूर्व कि और मुख होकर बैठें। सामने गणॆश‌जी का चित्र, यंत्र या मूर्ति स्थाप्ति करें  फिर षोडशोपचार या पंचोपचार से भगवान गजानन का पूजन कर प्रथम दिन संकल्प करें। इसके बाद भगवान ग्णेश‌का एकाग्रचित्त से ध्यान करें। नैवेद्य में यदि संभव होतो बूंदि या बेसन के लड्डू का भोग लगाये नहीं तो गुड का भोग लगाये साधक को गणेश‌जी के चित्र या मूर्ति  के सम्मुख शुद्ध घी का दीपक जलाए।  रोज १०८ माला का जाप कर ने से शीघ्र फल कि प्राप्ति होती हैं। यदि एक दिन में १०८ माला संभव न हो तो ५४, २७,१८ या ९ मालाओं का भी जाप किया जा सकता हैं।
मंत्र जाप करने में यदि आप असमर्थ हो, तो किसी ब्राह्मण को उचित दक्षिणा देकर उनसे जाप करवाया जा सकता हैं।

You Can Also Read Other Ganesh Chaturthi Related Article in GURUTVA JYOTISH  Sep-2012

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष -पत्रिका सितम्बर-2012 का अंक पढें।
इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।
>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (सितम्बर-2012)

Sep-2012

इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


2 टिप्‍पणियां:

  1. I needगुरुत्व ज्योतिष पत्रिका by post.

    उत्तर देंहटाएं
  2. I needगुरुत्व ज्योतिष पत्रिका by post.

    उत्तर देंहटाएं