Search

गुरुवार, जून 17, 2010

वास्तु एवं शिलान्यास

Vastu evm shilanyaas, Vastu or shila nyash, vastu and shilanyash, vastu evm bhumi poojan, वास्तु और शिलान्याश, वास्तु एवं भूमि पूजन

वास्तु एवं शिलान्यास
  • भूमि पर शिलान्यास सर्व प्रथम आग्नेय कोणमें करना शुभ होता हैं।
  • आग्नेय कोणमें में शिलान्यास करने के बाद अन्य सभी निर्माण प्रदक्षिणा क्रमसे (घडि कि दिशा में, (क्लोक वाईज) शुभ माना गया हैं।
  • दक्षिण में गृह निर्माण कि समाप्ति होने से भवन स्वामी के धनका नाश, स्त्री में विकार उत्पन्न होने लगते हैं एवं पुत्र संतान कि आयु क्षीण होती हैं।
  • आकाश में ध्रुव तारे को देखकर अथवा स्मरण कर नींव रखनी अति शुभ होती हैं।
  • मध्याह, मध्य रात्रि तथा सन्ध्या कालमें शिलान्यास हेतु नींव नहीं रखनी चाहिये। मध्याह्ल तथा मध्य रात्रिमें शिलान्यास करनेसे व्यक्ति के धन एवं स्वास्थय का नाश होता हैं।
  • शिलान्यास हेतु चौकोर एवं अखण्ड शिला लेनी शुभ होती हैं। ।
  • अधिक लम्बी,अधिक छोटी, असमान समतल वाली, काले रंग की एवं टूटी-फूटी शिला लेने से अशुभ तथा भय कि प्राप्ति होती हैं ।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें