Search

लोड हो रहा है. . .

शनिवार, मार्च 19, 2011

प्रहलाद और होलिका (होली से जुड़ी पौराणिक कथा-भाग:1)

হোলী পৌরাণিক কথা, holI paurANik kathA, holI paurANik kathA, ହୋଲୀ ପୌରାଣିକ କଥା, ହୋଳୀ ପୌରାଣିକ କଥା, प्रहलाद होलिका, પ્રહલાદ હોલિકા, ಪ್ರಹಲಾದ ಹೋಲಿಕಾ, ప్రహలాద హోలికా, ப்ரஹலாத ஹோலிகா,പ്രഹലാദ ഹോലികാ, ਪ੍ਰਹਲਾਦ ਹੋਲਿਕਾ, প্রহলাদ হোলিকা, ପ୍ରହଲାଦ ହୋଲିକା, prahalAd holikA, Holi's mythical the story - Part 1, mythology story of the Holy, Holi's legendary story, The Holy's legendary story, Festival of colors's legendary story, Holi's होली पौराणिक कथा, होळी पौराणिक कथा, હોલી પૌરાણિક કથા, હોળી પૌરાણિક કથા, ಹೋಲೀ ಪೌರಾಣಿಕ ಕಥಾ, ಹೋಳೀ ಪೌರಾಣಿಕ ಕಥಾ, ஹோலீ பௌராணிக கதா, ஹோளீ பௌராணிக கதா, హోలీ పౌరాణిక కథా, హోళీ పౌరాణిక కథా, ഹോലീ പൗരാണിക കഥാ, ഹോളീ പൗരാണിക കഥാ, ਹੋਲੀ ਪੌਰਾਣਿਕ ਕਥਾ, ਹੋਲ਼ੀ ਪੌਰਾਣਿਕ ਕਥਾ, হোলী পৌরাণিক কথা, mythical story, Holi's the legendary story, Holi's mythology story, Holi's mythical story, the mythical story of Holi,
होली २०११, होळी २०११, होलि २०११, होळि २०११, હોલી ૨૦૧૧, હોળી ૨૦૧૧, હોલિ ૨૦૧૧, હોળિ ૨૦૧૧,  ಹೋಲೀ ೨೦೧೧, ಹೋಳೀ ೨೦೧೧, ಹೋಲಿ ೨೦೧೧, ಹೋಳಿ ೨೦೧೧, ஹோலீ ௨0௧௧, ஹோளீ ௨0௧௧, ஹோலி ௨0௧௧, ஹோளி ௨0௧௧, హోలీ ౨౦౧౧, హోళీ ౨౦౧౧, హోలి ౨౦౧౧, హోళి ౨౦౧౧, ഹോലീ ൨൦൧൧, ഹോളീ ൨൦൧൧, ഹോലി ൨൦൧൧, ഹോളി ൨൦൧൧, ਹੋਲੀ ੨੦੧੧, ਹੋਲ਼ੀ ੨੦੧੧, ਹੋਲਿ ੨੦੧੧, ਹੋਲ਼ਿ ੨੦੧੧, হোলী ২০১১, হোলী ২০১১, হোলি ২০১১, হোলি ২০১১, ହୋଲି-୨୦୧୧, ହୋଲୀ-୨୦୧୧, ହୋଳି-୨୦୧୧, ହୋଳୀ-୨୦୧୧, holI 2011, hoLI 2011, holi 2011, hoLi 2011,

प्रहलाद और होलिका (होली से जुड़ी पौराणिक कथा-भाग:1)

प्रहलाद और होलिका:
पौराणिक मान्यता के अनुशार होलीका उत्सव का प्रारंभ प्रहलाद और होलिका के जीवन से जुड़ा है। हमारे प्राचिन धर्म ग्रंथो में से एक विष्णु पुराण में प्रहलाद और होलिका की कथा का उल्लेख मिलता हैं। हिरण्यकश्यप ने तपस्या कर वरदान प्राप्त कर लिया। अब हिरण्यकश्यप न तो अस्त्र-शस्त्र, मानव-पशु उसे पृथ्वी, आकाश, पाताल लोक में मार सकते थे।

वरदान के बल से हिरण्यकश्यपने देव-दानव-मानव आदि लोकों को जीत लिया और भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना बंद करा दी। परंतु हिरण्यकश्यप अपने पुत्र प्रहलाद को नारायण की भक्ति करना बंध नहीं कर सका। जिसके कारण हिरण्यकश्यप ने भगवान विष्णु के परम भक्त प्रहलाद को बहुत सी यातनाएँ दीं। पंरतुप्रहलाद ने विष्णु भक्ति नहीं छोड़ी।

हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को भी वरदान प्राप्त था कि वह आग में नहीं जलेगी। अत: दैत्यराज ने होलिका को विष्णु भक्त पुत्र का अंत करने के लिए प्रहलाद सहित आग में प्रवेश करा दिया। परंतु होलिका का वरदान निष्फल सिद्ध हुआ और वह स्वयं उस आग में जल कर मर गई और भक्त प्रहलाद का कुछ भी अनुष्ट नहीं हुवा। तभी से प्रहलाद की याद में होली का त्यौहार मनाया जाने लगा।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें