Search

लोड हो रहा है. . .

शनिवार, मार्च 12, 2011

होली दहन के पश्चयात समाप्त होंगे होलाष्टक

होलाष्टक महत्व, होळाष्टक महत्व, હોલાષ્ટક મહત્વ, હોળાષ્ટક મહત્વ, ಹೋಲಾಷ್ಟಕ ಮಹತ್ವ, ಹೋಳಾಷ್ಟಕ ಮಹತ್ವ, ஹோலாஷ்டக மஹத்வ, ஹோளாஷ்டக மஹத்வ, హోలాష్టక మహత్వ, హోళాష్టక మహత్వ, ഹോലാഷ്ടക മഹത്വ, ഹോളാഷ്ടക മഹത്വ, ਹੋਲਾਸ਼੍ਟਕ ਮਹਤ੍ਵ, ਹੋਲ਼ਾਸ਼੍ਟਕ ਮਹਤ੍ਵ, হোলাষ্টক মহত্ৱ, হোলাষ্টক মহত্ৱ, holAShTaka mahatva, hoLAShTaka mahatva, ହୋଲାଷ୍ଟକ ମହତ୍ବ, ହୋଲାଷ୍ଟକ ମହତ୍ବ, होली २०११, होळी २०११, होलि २०११, होळि २०११, હોલી ૨૦૧૧, હોળી ૨૦૧૧, હોલિ ૨૦૧૧, હોળિ ૨૦૧૧, ಹೋಲೀ ೨೦೧೧, ಹೋಳೀ ೨೦೧೧, ಹೋಲಿ ೨೦೧೧, ಹೋಳಿ ೨೦೧೧, ஹோலீ ௨0௧௧, ஹோளீ ௨0௧௧, ஹோலி ௨0௧௧, ஹோளி ௨0௧௧, హోలీ ౨౦౧౧, హోళీ ౨౦౧౧, హోలి ౨౦౧౧, హోళి ౨౦౧౧,  ഹോലീ ൨൦൧൧, ഹോളീ ൨൦൧൧, ഹോലി ൨൦൧൧, ഹോളി ൨൦൧൧, ਹੋਲੀ ੨੦੧੧, ਹੋਲ਼ੀ ੨੦੧੧, ਹੋਲਿ ੨੦੧੧, ਹੋਲ਼ਿ ੨੦੧੧, হোলী ২০১১, হোলী ২০১১, হোলি ২০১১, হোলি ২০১১, holI 2011, hoLI 2011, holi 2011, hoLi 2011,  Holashtak, holastakam, Holashtak 2011, holastak-2011,

होली दहन के पश्चयात समाप्त होंगे होलाष्टक

इस वर्ष 12 मार्च शनिवार से होलाष्टक प्रारंभ हो रहे हैं होलाष्टक 19 मार्च फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा के दिन होलीका दहन के प्रश्चयात समाप्त होंगे। शास्त्रीय मत के अनुसार होलाष्टक के दौरान सभी शुभ कार्य वर्जित रहेंगे। क्योकि इस दौरान नारायण भक्त प्रह्लाद का अधिग्रहण हुवा था इस कारण समय अशुभ माना जाता हैं।

होलाष्टक का महत्व क्या है ?
होली के आठ दिन पूर्व होलाष्टक प्रारंभ हो जाते हैं।
एसी मान्यता हैं कि इन आठ दिनों में
  • फाल्गुन शुक्ल अष्टमी को चंद्रमा का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल नवमी को सूर्य का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल दशमी को शनि का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल एकादशी को शुक्र का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल द्वादशी को गुरु का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल त्रयोदशी को बुध का रुप उग्र होता हैं।
  • फाल्गुन शुक्ल चतुर्दशी को मंगल का रुप उग्र होता हैं।
  • एवं फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा के दिन राहु का रुप उग्र होता हैं।
इस लिये इस समय के दौराण शुभ कार्य करने से अशुभ फल प्राप्त होते हैं इस कारण हमारे विद्वानो ने इस दौरान शुभ कार्य करना वर्जित माना हैं।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें