Search

लोड हो रहा है. . .

सोमवार, जुलाई 04, 2011

महामृत्युंजय अकाल मृत्यु एवं असाध्य रोगों से मुक्ति

महामृत्युंजय
अकाल मृत्यु एवं असाध्य रोगों से मुक्ति के लिये शीघ्र प्रभावि उपाय


महामृत्युंजय अकाल मृत्यु एवं असाध्य रोगों से मुक्ति के लिये शीघ्र प्रभावि उपाय, महामृत्युंजय अकाल मृत्यु एवं असाध्य रोगों, महामृत्युन्जय कवच, मन्त्र, मंत्र, यन्त्र, यंत्र, अकाल असाध्य रोगों अकाल मृत्यु से मुक्ति, મહામૃત્યુંજય અકાલ મૃત્યુ એવં અસાધ્ય રોગોં સે મુક્તિ, યન્ત્ર, યંત્ર, મહામૃત્યુન્જય અસાધ્ય રોગોં અકાલ મૃત્યુ સે મુક્તિ, કવચ, મન્ત્ર, મંત્ર, ಮಹಾಮೃತ್ಯುಂಜಯ ಅಕಾಲ ಮೃತ್ಯು ಏವಂ ಅಸಾಧ್ಯ ರೋಗೋಂ ಸೇ ಮುಕ್ತಿ, ಯನ್ತ್ರ, ಯಂತ್ರ, ಮಹಾಮೃತ್ಯುನ್ಜಯ ಅಸಾಧ್ಯ ರೋಗೋಂ ಅಕಾಲ ಮೃತ್ಯು ಸೇ ಮುಕ್ತಿ, ಕವಚ, ಮನ್ತ್ರ, ಮಂತ್ರ, மஹாம்ருத்யும்ஜய அகால ம்ருத்யு ஏவம் அஸாத்ய ரோகோம் ஸே முக்தி, யந்த்ர, யம்த்ர, மஹாம்ருத்யுந்ஜய அஸாத்ய ரோகோம் அகால ம்ருத்யு ஸே முக்தி, கவச, மந்த்ர, மம்த்ர, మహామృత్యుంజయ అకాల మృత్యు ఏవం అసాధ్య రోగోం సే ముక్తి, యన్త్ర, యంత్ర, మహామృత్యున్జయ అసాధ్య రోగోం అకాల మృత్యు సే ముక్తి, కవచ, మన్త్ర, మంత్ర, മഹാമൃത്യുംജയ അകാല മൃത്യു ഏവം അസാധ്യ രോഗോം സേ മുക്തി, യന്ത്ര, യംത്ര, മഹാമൃത്യുന്ജയ അസാധ്യ രോഗോം അകാല മൃത്യു സേ മുക്തി, കവച, മന്ത്ര, മംത്ര, ਮਹਾਮ੍ਰੁਤ੍ਯੁਂਜਯ ਅਕਾਲ ਮ੍ਰੁਤ੍ਯੁ ਏਵਂ ਅਸਾਧ੍ਯ ਰੋਗੋਂ ਸੇ ਮੁਕ੍ਤਿ, ਯਨ੍ਤ੍ਰ, ਯਂਤ੍ਰ, ਮਹਾਮ੍ਰੁਤ੍ਯੁਨ੍ਜਯ ਅਸਾਧ੍ਯ ਰੋਗੋਂ ਅਕਾਲ ਮ੍ਰੁਤ੍ਯੁ ਸੇ ਮੁਕ੍ਤਿ, ਕਵਚ, ਮਨ੍ਤ੍ਰ, ਮਂਤ੍ਰ, মহামৃত্যুংজয অকাল মৃত্যু এৱং অসাধ্য রোগোং সে মুক্তি, যন্ত্র, যংত্র, মহামৃত্যুন্জয অসাধ্য রোগোং অকাল মৃত্যু সে মুক্তি, কৱচ, মন্ত্র, মংত্র, mahAmRutyuMjay akAl mRutyu evaM asAdhy rogoM se mukti, yantr, yaMtr, mahAmRutyunjay asAdhy rogoM akAl mRutyu se mukti, kavac, mantr, maMtr, ମହାମୃତ୍ଯୁଂଜଯ ଅକାଲ ମୃତ୍ଯୁ ଏବଂ ଅସାଧ୍ଯ ରୋଗୋଂ ସେ ମୁକ୍ତି, ଯନ୍ତ୍ର, ଯଂତ୍ର, ମହାମୃତ୍ଯୁନ୍ଜଯ ସାଧ୍ଯ ରୋଗୋଂ ଅକାଲ ମୃତ୍ଯୁ ସେ ମୁକ୍ତି, କବଚ, ମନ୍ତ୍ର, ମଂତ୍ର,
ମହାମୃତ୍ୟୁନ୍ଜୟ ଅକାଲ ମୃତ୍ୟୁ ଏବଂ ଅସାଧ୍ଯ ରୋଗ ରୁ ମୁକ୍ତି mahamrutyunjay akala mrutyu evam asadhy rogon se mukti, yantr, yantr, mahamrutyunjay asadhy rogon akal mrutyu se mukti, kavac, mantr, maMtr, maha mrutyunjay roga nidana, maha mrutyunjay roga nivarana, maha mrutyunjay roga, maha mrutyunjay svasthya, maha mrutyunjay va rogake samaya kA gnna, maha mrutyunjay prabhava aura roga, roga ke prabhava ka maha mrutyunjay se nivaaran,maha mrutyunjay roga Shanti ke upaya, maha mrutyunjay roga Shanti, maha mrutyunjay roga nivarana, Healing maha mrutyunjay, maha mrutyunjay prevention, maha mrutyunjay disease, maha mrutyunjay disease, maha mrutyunjay and Arogce time, knowledge of planetary effects on the body part and disease, maha mrutyunjay while the impact of disease, maha mrutyunjay and disease of peace Measures, disease, maha mrutyunjay peace, maha mrutyunjay disease prevention

मानव शरीर में जो भी रोग उत्पन्न होते हैं उसके बारे में शास्त्रो में जो उल्लेख हैं वह इस प्रकार हैं
"शरीरं व्याधिमंदिरम्" अर्थात् ब्रह्मांड के पंच तत्वों से उत्पन्न शरीर में समय के अंतराल पर नाना प्रकार की आधि-व्यघि पीडा़ए उत्पन्न होती रहती हैं।

ज्योतिष शास्त्र एवं आयुर्वेद के अनुसार मनुष्य द्वारा पूर्वकाल में किये गयें कर्मो का फल ही व्यक्ति के शरीर में विभिन्न रोगों के रूप में प्रगट होतें हैं।

हरित सहिंता के अनुशार:
जन्मान्तर कृतम् पापम् व्याधिरुपेण बाधते।
तच्छान्तिरौषधैर्दानर्जपहोमसुरार्चनैः॥
अर्थातः पूर्व जन्म में किये गये पाप कर्म ही व्याधि के रूप में हमारे शरीर में उत्पन्न हो कर कष्टकारी हो जाता हैं। तथा औषध, दान, जप, होम व देवपूजा से रोग की शांति होती हैं।

शास्त्रोक्त विधान के अनुशार देवी भगवती ने भगवान शिव से कहा कि, हे देव! आप मुझे मृत्यु से रक्षा करने वाला और सभी प्रकार के अशुभों का नाश करने वाल कवच बतलाईये? तब शिवजी ने महामृत्युंजय कवच ……………..>>


अमोद्य् महामृत्युंजय कवच व उल्लेखित अन्य सामग्रीयों को शास्त्रोक्त विधि-विधान से विद्वान ब्राह्मणो द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय मंत्र जप एवं दशांश हवन द्वारा निर्मित कवच अत्यंत प्रभावशाली होता हैं।
अमोद्य महामृत्युंजय कवच धारण कर अन्य सामग्री को अपने पूजा स्थान में स्थापित ……………..>>
मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के कारण ही इस मंत्र को मृत्युंजय कहा जाता है। महामृत्यंजय मंत्र की महिमा का वर्णन शिव पुराण, काशीखंड और महापुराण ……………..>>


महामृत्युंजय मंत्र का महत्व:
मृत्युर्विनिर्जितो यस्मात् तस्मान्मृत्युंजय: स्मृत: या मृत्युंजयति इति मृत्युंजय,
अर्थात: जो मृत्यु को जीत ले, उसे ही मृत्युंजय कहा जाता है।

मंत्र जप के लिए विशेष:
यः शास्त्रविधि मृत्सृज्य वर्तते काम कारतः। न स सिद्धिमवाप्नोति न सुखं न परांगतिम्॥ (श्रीमद् भगवद् गीता:षोडशोऽध्याय)
भावार्थ : जो पुरुष शास्त्र विधि को त्यागकर अपनी इच्छा से मनमाना आचरण करता है, वह न सिद्धि को प्राप्त होता है, न परमगति को और न सुख को ही॥23॥

ज्योतिषशास्त्र के अनुशार दुख, विपत्ति या मृत्य के प्रदाता एवं निवारण के देवता शनिदेव हैं, क्योकि शनि व्यक्ति के कर्मो के अनुरुप व्यक्ति को फल प्रदान करते हैं। शास्त्रो के अनुशार मार्कण्डेय ऋषि का जीवन अत्यंत अल्प था, परंतु महामृत्युंजय मंत्र के जप से शिव कृपा प्राप्त कर उन्हें चिरंजीवी ……………..>>


संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष ई-पत्रिका मई-2011 का अंक पढें।

इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।


>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (मई-2011)
MAY-2011

>> http://gk.yolasite.com/resources/GURUTVA%20JYOTISH%20MAY-2011.pdf
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें