Search

लोड हो रहा है. . .

गुरुवार, दिसंबर 17, 2009

सूर्याष्टक स्तोत्र

SuryaaShtakam Satrot,  Sury Ashataka Satrot, Sury Satrot,
॥सूर्याष्टक स्तोत्र॥


   
आदि देव: नमस्तुभ्यम प्रसीद मम भास्कर ।

 दिवाकर नमस्तुभ्यम प्रभाकर नमोअस्तु ते ॥

 

 सप्त अश्व रथम आरूढम प्रचंडम कश्यप आत्मजम ।

 श्वेतम पदमधरम देवम तम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

  
लोहितम रथम आरूढम सर्वलोकम पितामहम ।

 महा पाप हरम देवम त्वम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

 

 त्रैगुण्यम च महाशूरम ब्रह्मा विष्णु महेश्वरम ।

 महा पाप हरम देवम त्वम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

 

 बृंहितम तेज: पुंजम च वायुम आकाशम एव च ।

 प्रभुम च सर्वलोकानाम तम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

 

 बन्धूक पुष्प संकाशम हार कुण्डल भूषितम । 
एक-चक्र-धरम देवम तम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

 

 तम सूर्यम जगत कर्तारम महा तेज: प्रदीपनम ।

 महापाप हरम देवम तम सूर्यम प्रणमामि अहम ॥

 

 सूर्य-अष्टकम पठेत नित्यम ग्रह-पीडा प्रणाशनम ।

 अपुत्र: लभते पुत्रम दरिद्र: धनवान भवेत ॥

 

आमिषम मधुपानम च य: करोति रवे: दिने ।

सप्त जन्म भवेत रोगी प्रतिजन्म दरिद्रता ॥

 

स्त्री तैल मधु मांसानि य: त्यजेत तु रवेर दिने ।

न व्याधि: शोक दारिद्रयम सूर्यलोकम गच्छति ॥

 
 

यह सूर्याष्टक सिद्ध स्तोत्र है,
  • प्रात: स्नानोपरान्त तांबे के पात्र से सूर्य को अर्घ देनाचाहिये।
  • तदोपरान्त सूर्य के सामने खडे होकर सूर्य को देखते हुए १०८ पाठ नित्य करने चाहिये।
  • नित्य पाठ करने से मान, सम्मान, नेत्र ज्योति जीवनोप्रयन्त बनी रहेगी।
  • सूर्य ग्रह से संबंधित समस्त कम होजाते है एवं शुभ फल की प्राप्र्ति होती है।
  • यदि प्रतिदिन १०८ बार संभव न होतो १ बार करने से भी लाभ प्राप्त होते है।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें