Search

लोड हो रहा है. . .

बुधवार, अप्रैल 14, 2010

राधाकृत गणेशस्तोत्रम्

Radha krut ganesh stotram

राधाकृत गणेशस्तोत्रम्


श्रीराधिकोवाच:

परम् धाम परम् ब्रह्म परेशम् परमीश्वरम्। विघन्निघन्करम् शान्तम् पुष्टम् कान्तमनन्तकम्॥

सुरासुरेन्द्रै: सिद्धैन्द्रै: स्तुतम् स्तौमि परात्परम्। सुरपद्मदिनेशम् च गणेशम् मङ्गलायनम्॥
इदम् स्तोत्रम् महापुण्यम् विघन्शोकहरम् परम्। य: पठेत् प्रातरुत्थाय सर्वविघनत् प्रमुच्यते॥



इस स्तोत्र का प्रति दिन पाठ करने से मनुष्य के सारे विघ्नो एवं शोको का नाश होता हैं।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें