Search

लोड हो रहा है. . .

शुक्रवार, नवंबर 19, 2010

शान्ताकारम स्लोक

Shantakaram

॥शान्ताकारम॥


स्लोकः
शान्ताकारम भुजगशयनम पद्मनाभम सुरेशं ।
विश्वधारम गगन सदृशं मेघवर्णम शुभान्गम ।।

लक्ष्मिकानतम कमलनयनम योगभिरध्यानगम्य्म ।
वंदे विष्णुँ भवभयहरम सर्वलोकैकनाथम ।।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें