शुक्रवार, अक्टूबर 21, 2011

धन तेरस शुभ मुहूर्त (24 अक्तूबर, 2011)

धनतेरस, धन त्रयोदशी, धनतेरस लक्ष्मी पूजन, लक्ष्मी पूजा, धनत्रयोदशीधनवंतरि, धनतेरस के शुभ मुहूर्त, धनतेरस शुभ महूरत, धनतेरस की पूजा, धनतेरस पर दीपदानलक्ष्मी पुजन, लक्ष्मी पुजा, ધનતેરસ, ધન ત્રયોદશી, ધનતેરસ લક્ષ્મી પૂજન, લક્ષ્મી પૂજા, ધનત્રયોદશીધનવંતરિ, ધનતેરસ કે શુભ મુહૂર્ત, ધનતેરસ શુભ મહૂરત, ધનતેરસ કી પૂજા, ધનતેરસ પર દીપદાનલક્ષ્મી પુજન, લક્ષ્મી પુજા, ಧನತೇರಸ, ಧನ ತ್ರಯೋದಶೀ, ಧನತೇರಸ ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಪೂಜನ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಪೂಜಾ, ಧನತ್ರಯೋದಶೀಧನವಂತರಿ, ಧನತೇರಸ ಕೇ ಶುಭ ಮುಹೂರ್ತ, ಧನತೇರಸ ಶುಭ ಮಹೂರತ, ಧನತೇರಸ ಕೀ ಪೂಜಾ, ಧನತೇರಸ ಪರ ದೀಪದಾನಲಕ್ಷ್ಮೀ ಪುಜನ, ಲಕ್ಷ್ಮೀ ಪುಜಾ, தநதேரஸ, தந த்ரயோதஶீ, தநதேரஸ லக்ஷ்மீ பூஜந, லக்ஷ்மீ பூஜா, தநத்ரயோதஶீதநவம்தரி, தநதேரஸ கே ஶுப முஹூர்த, தநதேரஸ ஶுப மஹூரத, தநதேரஸ கீ பூஜா, தநதேரஸ பர தீபதாநலக்ஷ்மீ புஜந, லக்ஷ்மீ புஜா, ధనతేరస, ధన త్రయోదశీ, ధనతేరస లక్ష్మీ పూజన, లక్ష్మీ పూజా, ధనత్రయోదశీధనవంతరి, ధనతేరస కే శుభ ముహూర్త, ధనతేరస శుభ మహూరత, ధనతేరస కీ పూజా, ధనతేరస పర దీపదానలక్ష్మీ పుజన, లక్ష్మీ పుజా, ധനതേരസ, ധന ത്രയോദശീ, ധനതേരസ ലക്ഷ്മീ പൂജന, ലക്ഷ്മീ പൂജാ, ധനത്രയോദശീധനവംതരി, ധനതേരസ കേ ശുഭ മുഹൂര്ത, ധനതേരസ ശുഭ മഹൂരത, ധനതേരസ കീ പൂജാ, ധനതേരസ പര ദീപദാനലക്ഷ്മീ പുജന, ലക്ഷ്മീ പുജാ, ਧਨਤੇਰਸ, ਧਨ ਤ੍ਰਯੋਦਸ਼ੀ, ਧਨਤੇਰਸ ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਪੂਜਨ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਪੂਜਾ, ਧਨਤ੍ਰਯੋਦਸ਼ੀਧਨਵਂਤਰਿ, ਧਨਤੇਰਸ ਕੇ ਸ਼ੁਭ ਮੁਹੂਰ੍ਤ, ਧਨਤੇਰਸ ਸ਼ੁਭ ਮਹੂਰਤ, ਧਨਤੇਰਸ ਕੀ ਪੂਜਾ, ਧਨਤੇਰਸ ਪਰ ਦੀਪਦਾਨਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਪੁਜਨ, ਲਕ੍ਸ਼੍ਮੀ ਪੁਜਾ,ধনতেরস, ধন ত্রযোদশী, ধনতেরস লক্ষ্মী পূজন, লক্ষ্মী পূজা, ধনত্রযোদশীধনৱংতরি, ধনতেরস কে শুভ মুহূর্ত, ধনতেরস শুভ মহূরত, ধনতেরস কী পূজা, ধনতেরস পর দীপদানলক্ষ্মী পুজন, লক্ষ্মী পুজা, ଧନତେରସ, ଧନ ତ୍ରଯୋଦଶୀ, ଧନତେରସ ଲକ୍ଷ୍ମୀ ପୂଜନ, ଲକ୍ଷ୍ମୀ ପୂଜା, ଧନତ୍ରଯୋଦଶୀଧନବଂତରି, ଧନତେରସ କେ ଶୁଭ ମୁହୂର୍ତ, ଧନତେରସ ଶୁଭ ମହୂରତ, ଧନତେରସ କୀ ପୂଜା, ଧନତେରସ ପର ଦୀପଦାନଲକ୍ଷ୍ମୀ ପୁଜନ, ଲକ୍ଷ୍ମୀ ପୁଜା, Dhanteras 2011, 24 October, Subh Muhurat, auspicious timings,  Dhanteras 2011, dhanteras celebrations, dhanteras diwali, dhanteras puja, dhanteras pujan, Lakshmi Puja, Laxmi poojaa, Dhanteras - Festival of Wealth, Festival History and Information, Dhanwantari Trayodashi, auspicious timings for Hindu festival Dhanteras,
धन तेरस शुभ मुहूर्त (24 अक्तूबर, 2011)
लेख साभार: गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (अक्टूबर-2011)

एसी पौराणिक मान्यता हैं कि धन तेरस के दिन धनवंतरी नामक देवता अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए थे। धनवंतरी धन, स्वास्थय आयु के अधिपति देवता हैं। धनवंतरी को देवों के वैध चिकित्सक के रुप में जाना जाता हैं। GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
धन तेरस के दिन चांदी के बर्तन-सिक्के खरीदना विशेष शुभ होता हैं। क्योकि शास्त्रों में धनवंतरी देव को चंद्रमा के समान माना गया हैं। धन तेरस के धनवंतरी के पूजन से मानसिक शान्ति, मन में संतोष एव स्वभाव में सौम्यता का भाव आता हैं। जो लोग अधिक से अधिक धन एकत्र करने कि कामना करते हों उन्हें धनवंतरी देव कि प्रतिदिन आराधना करनी चाहिए। धनतेरस पर पूजा करने से व्यक्ति में संतोषस्वास्थय, सुख धन कि विशेष प्राप्ति होती हैं। जिन व्यक्तियों के उत्तम स्वास्थय में कमी तथा सेहत खराब होने कि आशंकाएं बनी रहती हैं उन्हें विशेष रुप से इस शुभ दिन में पूजा आराधना करनी चाहिए। धनतेरस में खरीदारी शुभ मानी जाती हैं। लक्ष्मी जी एवं गणेश जी कि चांदी कि प्रतिमा-सिक्को को इस दिन खरिदना ……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  OCT-2011GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
धन तेरस पूजा मुहूर्त GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
 प्रदोष काल 2 घण्टे एवं 24 मिनट का होता हैं। अपने शहर के सूर्यास्त समय अवधि से लेकर अगले 2 घण्टे 24 मिनट कि समय अवधि को प्रदोष काल माना जाता हैं। अलग- अलग शहरों में प्रदोष काल के निर्धारण का आधार सूर्योस्त समय के अनुशार निर्धारीत करना चाहिये। धनतेरस के दिन प्रदोषकाल में दीपदान व लक्ष्मी पूजन करना शुभ रहता है । GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
इस वर्ष 24 अक्तूबर, 2011 (धनतेरस) को भारतीय समय अनुशार नई दिल्ली में संध्या सूर्यास्त के बाद 05 बज कर 44 मिनिट से आरम्भ होकर रात के 08 बजकर 06 मिनट तक का समय प्रदोष काल रहेगा। इस समया अवधि में स्थिर लग्न  (वृषभ) भी मुहुर्त समय में होने के कारण घर-परिवार में स्थायी लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
24 अक्तूबर, 2011 को प्रदोष काल में भी स्थिर लग्न (वृषभ राशि) हो रहा हैं, स्थिर लग्न का समय सबसे उतम माना जाता हैं। धन तेरस के दिन प्रदोष काल स्थिर लग्न दोनों का संयोग संध्या 06:54:31 बजे से लेकर रात्री ……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  OCT-2011
GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
चौघाडिया मुहूर्त GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
·    अमृत मुहूर्त सुबह 06:10 से 07:37 तक GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
·    शुभ मुहूर्त सुबह 09.04 से 10:32 तक
·                     ·    चल मुहूर्त दोपहर 01:34 से 02:58 तक
·                    ·         लाभ मुहूर्त दोपहर ………
·                    ·          अमृत मुहूर्त दोपहर………. KARYALAY | GURUTVA JY...OTISH
·    चल मुहूर्त संध्या……….
·                     ·   लाभ मुहूर्त रात्री  …….……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  OCT-2011

शुभ महूर्त का समय धन तेरस की पूजा के लिये विशेष शुभ रहेगा। लाभ मुहूर्त पूजन करने से प्राप्त होने वाले लाभों में वृद्धि होती हैं। शुभ काल मुहूर्त कि शुभता से धन, स्वास्थय आयु में वृद्धि होती हैं। सबसे अधिक शुभ अमृत काल में पूजा करने का होता हैं। GURUTVA KARYALAY | GURUTVA JYOTISH
नोट: उपरोक्त वर्णित सूर्यास्त का समय निरधारण नई दिल्ली के अक्षांश रेखांश के अनुशार आधुनिक पद्धति से किया गया हैं। इस विषय में विभिन्न मत एवं सूर्यास्त ज्ञात करने का तरीका भिन्न होने के कारण सूर्यास्त समय का निरधारण भिन्न हो सकता हैं। सूर्यास्त समय का निरधारण स्थानिय सूर्यास्त के अनुशार हि करना उचित होगा।

>> गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका (अक्टूबर -2011)
OCT-2011

पाठको की पसंद
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Feedback

कृप्या अपना पूरा नाम लिखे

अपना मोबाईल या फोन नंबर लिखे

ईमेल पता भरे

प्रतिक्रिया
हमारे ब्लोग को रेटिंग दे


आप हमारे द्वारा और क्या सेवा ये चाहते है जो अन्य ब्लोग अथवा वेब साइट पर उप्लब्ध हो?

Need assistance with this form?

PUBLIC NOTICE

  • हमारे द्वारा पोस्ट किये गये सभी लेख हमारे वर्षो के अनुभव एवं अनुशंधान के आधार पर लिखे होते हैं।
  • हम किसी भी व्यक्ति विशेष द्वारा प्रयोग किये जाने वाले मंत्र- यंत्र या अन्य प्रयोग या उपायोकी जिन्मेदारी नहिं लेते हैं।
  • यह जिन्मेदारी मंत्र-यंत्र या अन्य प्रयोग या उपायोको करने वाले व्यक्ति कि स्वयं कि होगी।
  • क्योकि प्रयोग के करने मे त्रुटि होने पर प्रतिकूल परिणाम संभव हैं।
  • हमारे द्वारा पोस्ट किये गये सभी मंत्र-यंत्र या उपाय हमने सैकडोबार स्वयं पर एवं अन्य हमारे बंधुगण पर प्रयोग किये हैं जिस्से हमे हर प्रयोग या मंत्र-यंत्र या उपायो द्वारा निश्चित सफलता प्राप्त हुई हैं।
  • अधिक जानकारी हेतु आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।
(सभी विवादो केलिये केवल भुवनेश्वर न्यायालय ही मान्य होगा।)