Search

लोड हो रहा है. . .

बुधवार, सितंबर 01, 2010

प्राणेश्वर श्रीकृष्ण मंत्र

praneshvar Krushna mantra, praneswar krishna mantra, praneshwar krushna mantra, praneshvar krishna srtotra, praneshvar krishna stotra, प्राणेश्वर क्रिष्न मंत्र, प्राणेश्वर कृष्न मंत्र,

प्राणेश्वर श्रीकृष्ण मंत्र

मंत्र:-
"ॐ ऐं श्रीं क्लीं प्राण वल्लभाय सौः  सौभाग्यदाय श्रीकृष्णाय स्वाहा।"

विनियोगः- ॐ अस्य श्रीप्राणेश्वर श्रीकृष्ण मंन्त्रस्य भगवान् श्रीवेदव्यास ऋषिः,
गायत्री छंदः-, श्रीकृष्ण-परमात्मा देवता, क्लीं बीजं, श्रीं शक्तिः, ऐं कीलकं, ॐ व्यापकः, मम समस्त-क्लेश-परिहार्थं, चतुर्वर्ग-प्राप्तये, सौभाग्य वृद्धयर्थं च जपे विनियोगः।
ऋष्यादि न्यासः- श्रीवेदव्यास ऋषये नमः शिरसि, गायत्री छंदसे नमः मुखे, श्रीकृष्ण परमात्मा देवतायै नमः हृदि, क्लीं बीजाय नमः गुह्ये, श्रीं शक्तये नमः नाभौ, ऐं कीलकाय नमः पादयो, ॐ व्यापकाय नमः सर्वाङ्गे, मम समस्त क्लेश परिहार्थं, चतुर्वर्ग प्राप्तये, सौभाग्य वृद्धयर्थं च जपे विनियोगाय नमः अंजलौ।
कर-न्यासः- ॐ ऐं श्रीं क्लीं अंगुष्ठाभ्यां नमः प्राणवल्लभाय तर्जनीभ्यां स्वाहा, सौः मध्यमाभ्यां वषट्, सौभाग्यदाय अनामिकाभ्यां हुं श्रीकृष्णाय कनिष्ठिकाभ्यां वौषट्, स्वाहा करतलकरपृष्ठाभ्यां फट्।
अंग-न्यासः- ॐ ऐं श्रीं क्लीं हृदयाय नमः, प्राण वल्लभाय शिरसे स्वाहा, सौः शिखायै वषट्, सौभाग्यदाय शिखायै कवचाय हुं, श्रीकृष्णाय नेत्र-त्रयाय वौषट्, स्वाहा अस्त्राय फट्।
ध्यानः- "कृष्णं जगन्मपहन-रुप-वर्णं, विलोक्य लज्जाऽऽकुलितां स्मराढ्याम्।
मधूक-माला-युत-कृष्ण-देहं, विलोक्य चालिंग्य हरिं स्मरन्तीम्।।"

भावार्थ: संसार को मुग्ध करने वाले भगवान् कृष्ण के रुप-रंग को देखकर प्रेम पूर्ण होकर गोपियाँ लज्जापूर्वक व्याकुल होती हैं और मन-ही-मन हरि को स्मरण करती हुई भगवान् कृष्ण की मधूक-पुष्पों की माला से विभुषित देह का आलिंगन करती हैं।

इस मंत्र का विधि-विधान से १,००,००० जाप करने का विधान हैं।
इससे जुडे अन्य लेख पढें (Read Related Article)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें